पाकिस्‍तान के कब्‍जे वाले कश्‍मीर में जल्‍द ही क्रिकेट लीग का आयोजन होने वाला है. POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में उम्‍मीद जताई जा रही है कि दुनिया भर के खिलाड़ी इसमें हिस्‍सा लेंगे. बीसीसीआई ने राष्‍ट्र हित को ध्‍यान में रखते हुए यह साफ कर दिया है कि दुनिया को काई भी खिलाड़ी अगर POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में खेलेगा तो उन्‍हें आईपीएल में खेलने से हमेशा के लिए बैन कर दिया जाएगा.

इंडिया एक्‍सप्रेस अखबार की रिपोर्ट के अनुसार बीसीसीआई ने सभी देशों के क्रिकेट बोर्ड को अनौपचारिक तौर पर यह साफ तौर पर बोल दिया है कि अगर उनके खिलाड़ी पाकिस्‍तान की विवादित लीग में खेलते हुए नजर आए तो वो उनके साथ सभी व्‍यवसायिक संबंधों को खत्‍म कर देगी.

बीसीसीआई की तरफ से यह कहा गया कि अगर उनका कोई भी खिलाड़ी पाकिस्‍तान सुपर लीग में खेलता है तो इससे उन्‍हें कोई भी दिक्‍कत नहीं है लेकिन कश्‍मीर को लेकर बोर्ड की सोच एक दम साफ है. राष्‍ट्र हित के मामले में बीसीसीआई कोई भी समझौता नहीं करेगी.

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने अखबार से कहा, “सहयोगी क्रिकेट बोर्ड से बातचीत के दौरान हमने उन्‍हें यह बता दिया है कि POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में अगर उनके खिलाड़ी खेलते हैं तो फिर भारत में वो खिलाड़ी किसी भी क्रिकेट गतिविधि का हिस्‍सा नहीं बन पाएंगे. देश को सर्वापरी मानते हुए हम यह निर्णय ले रहे हैं. कश्‍मीर के मामले में हम भारत सरकारी की लाइन पर चलते हुए ही आगे काम करेंगे.”

यह मामला उस वक्‍त सामने आया जब साउथ अफ्रीका के दिग्‍गज क्रिकेटर हर्षल गिब्‍स (Herschelle Gibbs) ने बीसीसीआई पर यह आरोप लगाया कि वो अपने राजनीतिक एजेंडे के तहत क्रिकेटर्स को POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग में खेलने से रोक रहे हैं.

हर्षल गिब्‍स (Herschelle Gibbs) ने ट्विटर पर लिखा, “पाकिस्‍तान के साथ अपने राजनीतिक एजेंड को बीच में जाना बीसीसीआई द्वारा गैरजरूरी कदम है. वो मुझे POK की कश्‍मीर प्रीमियर लीग का हिस्‍सा बनने से रोक रहे हैं. मुझे धमकी दी जा रही है कि अगर मैं इस लीग का हिस्‍सा बना तो मुझपर भारत में सभी प्रकार की क्रिकेट संबंधित गतिविधियों का हिस्‍सा बनने से रोक लगा दी जाएगी.”