England vs India, 3rd Test: भले ही विराट कोहली (Virat Kohli) 49 पारियों से अंतर्राष्ट्रीय शतक नहीं जड़ सके हैं, लेकिन इंग्लैंड के कप्तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) उन्हें काफी पसंद करते हैं. पीटरसन के मुताबिक मैदान पर विराट कोहली का जोश और उत्साह देखने लायक होता है. टेस्ट क्रिकेट ही उनके लिए सबकुछ है और कोहली का यह जुनून इस फॉर्मेट के लिए अच्छा है. पीटरसन का मानना है कि टेस्ट को सबसे ज्यादा प्यार की जरूरत है और विराट कोहली अपनी मेहनत के दम पर सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ के नक्शेकदम पर एक महान टेस्ट क्रिकेटर बनने की राह पर हैं.

पीटरसन ने ‘बेटवे’ के लिये अपने ब्लॉग में लिखा, ‘‘विराट कोहली को जितना मैं जानता हूं , मुझे पता है कि अपने नायकों का अनुसरण करने के लिये उसने कितनी मेहनत की है. उसके नायक सचिन तेंदुलकर, राहुल द्रविड़ और टेस्ट क्रिकेट के बाकी लीजैंड हैं. कोहली को पता है कि खेल का लीजैंड बनने के लिये उसे टी20 के साथ टेस्ट क्रिकेट में भी अच्छा प्रदर्शन करना होगा.’’

पीटरसन ने कहा, ‘‘यही वजह है कि वह इस प्रारूप को इतनी अहमियत देता है. वह भी ऐसे समय में जब टेस्ट क्रिकेट को इसकी सख्त जरूरत है. एक वैश्विक सुपरस्टार क्रिकेटर का टेस्ट क्रिकेट के लिये यह जुनून देखकर अच्छा लगता है.’’

भारत ने मेजबान इंग्लैंड को लॉडर्स टेस्ट में 151 रन से मात देकर सीरीज में 1-0 से लीड बना ली है. पीटरसन ने कहा, ‘‘विराट चाहते हैं कि उसकी टीम हर हालात में अच्छा प्रदर्शन करे. पहले ऑस्ट्रेलिया में और अब इंग्लैंड में टीम को जीतते देखकर उसे अपार संतोष हुआ होगा. उसका जोश, उसका जुनून और टीम के प्रति समर्पण दिखाई देता है. टेस्ट क्रिकेट अभी भी उसके लिये सब कुछ है और इस तरह के पल उसके कैरियर को परिभाषित करेंगे.’’