England vs India, 3rd Test: भारतीय क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज केएल राहुल (KL Rahul) ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के पहले 2 मुकाबलों में शानदार प्रदर्शन किया है. पहले मुकाबले में उन्होंने 84 और 26, जबकि अगले मुकाबले में 126 और 5 रन बनाए. राहुल साल 2019 के बाद टेस्ट मुकाबला खेलने उतरे और उन्होंने मौके को भुनाया. भारतीय टीम के फील्डिंग कोच आर श्रीधर (Ramakrishnan Sridhar) ने इस सलामी बल्लेबाज की सफलता का राज बताया है.

श्रीधर के मुताबिक इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज से पहले 40-50 दिनों तक की गई तैयारी को लोकेश राहुल की सफलता का श्रेय जाता है. श्रीधर ने रविचंद्रन अश्विन के यू-ट्यूब चैनल पर कहा, “राहुल चौथे ऐसे ओपनर थे जो इस सीरीज में शामिल थे. लेकिन उनकी तैयारी अलग थी. मैंने उसे बहुत थ्रो डाउन खेलाया है.”

आर श्रीधर ने आगे कहा, “किस तरह खेलना है और बल्ले का एंगल किस तरह रखना है, उन्होंने हर चीज का विश्लेषण किया है और 40-50 दिनों तक अच्छे से तैयारी की है. इसी कारण वह उस तरह बल्लेबाजी कर पा रहे हैं जिस तरह करते हैं. राहुल ने ओपनर के रूप में इंग्लैंड में रन बनाने का तरीका खोजा. साल 2018 में भी उन्होंने ‘द ओवल’ में 100 रन बनाए थे. इंग्लैंड में सभी ओपनर सफल नहीं है.”

श्रीधर ने अश्विन के साथ चैट के दौरान जसप्रीत बुमराह और जेम्स एंडरसन के बीच विवाद पर भी बयान दिया था. श्रीधर ने कहा, “बुमराह एक प्रतिस्पर्धी तेज गेंदबाज हैं, लेकिन जानबूझकर किसी को चोट नहीं पहुंचाना चाहते. बुमराह ने 8-10 गेंदें फेंकी. यॉर्कर, बाउंसर. एंडरसन असहज थे लेकिन किसी तरह आउट नहीं हुए. पहले तेज गेंदबाजों के क्लब के बीच एक अलिखित नियम था. आप बाउंसर नहीं फेंकेंगे. पूरी गेंदबाजी करें और दूसरे को आउट करें. यह एक समझ थी. अब वह खत्म हो गया है.”

उन्होंने आगे कहा, “पारी के बाद, लड़के ड्रेसिंग रूम में वापस जा रहे थे. बुमराह जिमी के पास गए और उसे थपथपाया, ताकि उसे बताया जा सके कि यह जानबूझकर नहीं था. बुमराह उससे बात करने और मामला खत्म करने गया था, लेकिन जिमी ने उसे भाव नहीं दिया.”