भारतीय टीम (Team India) में बहुत सारे खिलाड़ी अपनी सफलता का श्रेय पूरी कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को दे चुके हैं. ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) भी उन्‍हीं में से एक हैं. मंगलवार को हार्दिक ने एक इंटरव्‍यू के दौरान कहा कि अपनी गलतियों से सीखना उन्‍हें माही भाई ने ही सिखया है. हार्दिक इस वक्‍त पूरी तरह फिट नहीं हैं. यही वजह है कि मुख्‍य चयनकर्ता चेतन शर्मा (Chetan Sharma) ने उन्‍हें टी20 विश्‍व कप 2021 के बाद बाहर का रास्‍ता दिखा दिया. हार्दिक भले ही फिटनेस से जुड़े कारणों के चलते टीम इंडिया का हिस्‍सा नहीं हों लेकिन साउथ अफ्रीका दौरे पर (India vs South Africa) टीम को उनकी कमी साफ खली.

खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार से बातचीत के दौरान हार्दिक पांड्या ने कहा, “मैंने सभी लोगों से काफी कुछ सीखा है. खासतौर पर माही भाई से. जब टीम में खेलने गया तो मैं एक रॉ मटेरियल से ज्‍यादा कुछ भी नहीं था. उन्‍होंने मेरी स्किल को डेवलप किया और खेलने की आजादी दी. वो चाहते थे कि मैं अपनी गलतियों से खुद सीखूं.”

हार्दिक पांड्या का मानना है कि माही टीम में हर एक खिलाड़ी को पूरी आजादी देते हैं. “जब मैं खेलने गया तो मुझे लगा कि महेंद्र सिंह धोनी मुझे बताएंगे कि यहां गेंद डालनी है या यहां नहीं डालनी हैं. वो पूरी तरह से हर चीज पर नजर रखेंगे. मैं सोचता रहा कि ये मुझे कुछ कह क्‍यों नहीं रहे हैं.  वो चाहते थे कि मैं अपनी गलतियों से खुद सीखूं ताकि मैं लंबे समय तक खेल सकूं.”