भारतीय टीम ने इंग्‍लैंड दौरे पर मेजबानों को टेस्‍ट सीरीज के दौरान 2-1 से पछाड़ा. हालांकि आखिरी मैच को लेकर अबतक भी स्थिति स्‍पष्‍ट नहीं होने के कारण सीरीज का नतीजा नहीं आ सका है. इंग्लिश टीम के विस्‍फोटक बल्‍लेबाज डेविड मलान (Dawid Malan) का कहना है कि मौजूदा वक्‍त में भारतीय गेंदबाजी (Indian Fast Bowing Attack) में इतनी विविधता है कि हर एक को खेलने का आदी हो पाना भी आसान नजर नहीं आता.

तीन साल बाद टेस्ट टीम में लौटे मलान ने कहा कि जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और मोहम्मद सिराज जैसे गेंदबाज एक दूसरे से अलग हैं और जब वे साथ में गेंदबाजी करते हैं तो बल्लेबाजों के लिये काफी मुश्किल हो जाती है.

रविचंद्रन अश्विन ने इंग्‍लैंड दौरे से पहले वहां काउंटी क्रिकेट के दौरान पांच विकेट हॉल लिया था. फिर भी उन्‍हें सभी चार मैचों में टीम में शामिल नहीं किया गया. तीन साल बाद इंग्‍लैंड की टेस्‍ट टीम में वापसी कर रहे डेविड मलान का मानना है कि अश्विन के खेल पर संदेह नहीं किया जा सकता है. कप्‍तान ने केवल अपने विवेक के मुताबिक रवींद्र जडेजा को तरजीह दी है.

मलान (Dawid Malan) ने खुशी जताई कि रविचंद्रन अश्विन भारतीय टीम में शामिल नहीं थे.‘‘ इसलिये नहीं कि वह महान गेंदबाज नहीं है, वह गंभीर गेंदबाज है. वह सर्वश्रेष्ठ स्पिनरों में से एक है. मेरे लिये इस पर टिप्पणी करना मुश्किल होगा कि वह टीम में क्यो नहीं थे. ’’

उन्होंने कहा ,‘‘भारतीय टीम प्रबंधन, कप्तान ने जडेजा और अश्विन में से जडेजा को चुना. वे श्रृंखला में आगे थे तो उस फैसले पर बहस नहीं की जा सकती. मुझे खुशी है कि अश्विन नहीं खेला.’’

भारतीय तेज बैट्री पर डेविड मलान (Dawid Malan) ने कहा,‘‘ये सभी काफी कठिन है. भारतीय आक्रमण के बारे में एक बात है कि वे सभी एक दूसरे से अलग है. उनके खिलाफ खेलने की आदत कभी नहीं बन सकती. एक को खेलने की आदत होती है तो दूसरा नयी चुनौती पेश करता है. सभी ने श्रृंखला में बेहतरीन प्रदर्शन किया.’’