टीम इंडिया के स्टार ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने सोमवार को टेस्ट क्रिकेट में एक और नई उपलब्धि अपने नाम कर ली है. न्यूजीलैंड की दूसरी पारी में अश्विन ने जैसे ही अपना दूसरा विकेट लिया वह सर्वाधिक टेस्ट विकेट के मामले में अपने सीनियर स्टार ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) को पछाड़कर उनसे आगे निकल चुके हैं. हरभजन सिंह ने अपने 103 टेस्ट मैच के करियर में कुल 417 विकेट अपने नाम किए. अब वह लंबे समये से टेस्ट क्रिकेट से दूर हैं.

अश्विन विकेट लेने के मामले में हरभजन सिंह से कहीं ज्यादा तेज गति से आगे बढ़ रहे हैं. वह कानपुर में अपने टेस्ट करियर का 80वां टेस्ट मैच ही खेल रहे हैं और उन्होंने इससे पहले ही 400 विकेट के क्लब में एंट्री कर ली थी. उन्होंने अपना 418वां शिकार टॉम लैथम (52) को बोल्ड कर अपने नाम किया.

https://twitter.com/BCCI/status/1465238186372714503?s=20

400 टेस्ट विकेट क्लब में 35 वर्षीय अश्विन चौथे भारतीय बने थे. भारतीय गेंदबाजों में सर्वाधिक टेस्ट विकेट लेने के मामले में अब वह तीसरे स्थान पर हैं. फिलहाल उनसे आगे भारत के पूर्व कप्तान अनिल कुंबले (619) और कपिल देव (434) का नाम है.

तमिलनाडु के इस ऑफ स्पिनर में विकेट्स लेने की एक अलग ही भूख दिखती है. वह हमेशा गुच्छों में विकेट लेकर भारतीय टीम को जीत दिलाने की भरसक कोशिश करते दिखते हैं. अपने अभी तक के अपने टेस्ट करियर में 30 बार 5 विकेट हॉल निकाले हैं. इसके अलावा 7 बार उन्होंने 10 हॉल भी निकाले हैं. अश्विन ने इसी साल फरवरी में इंग्लैंड के खिलाफ 400 टेस्ट विकेट के क्लब में एंट्री ली थी.

अश्विन की निगाह अब अपने अगले पड़ाव पर है. वह सर्वाधिक विकेट लेने के बाद मामले दूसरे भारतीय गेंदबाज बनने के भी बेहद करीब हैं. उनसे आगे कपिल देव (434 विकेट) हैं. अश्विन उनसे 16 विकेट ही पीछे हैं.

हरभजन से अब उन्हें चुनौती मिलना नामुमकिन ही है. भज्जी साल 2015 के बाद से टेस्ट क्रिकेट नहीं खेले हैं. उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास भले न लिया हो लेकिन अब वह चयनकर्ताओं या टीम मैनेजमेंट की रणनीति का हिस्सा भी नहीं हैं.