सीमित ओवरों के क्रिकेट में रोमांच को और बढ़ाने के मकसद से नो बॉल फेंकने पर ‘फ्री हिट’ का नियम शुरू किया गया. पूर्व दिग्गज गेंदबाज डेल स्टेन (Dale Steyn) को यह नियम इतना पसंद आया है कि वह चाहते हैं कि इसे टेस्ट क्रिकेट में भी लागू किया जाना चाहिए. स्टेन आईसीसी को इस नियम को लाने की इसलिए सलाह दे रहे हैं क्योंकि वह चाहते हैं कि इससे टेस्ट क्रिकेट में अनुशासन बढ़े और इससे पुछल्ले बल्लेबाजों को घातक गेंदबाजी का सामना कम से कम करना पडे़गा.

स्टेन भारत और साउथ अफ्रीका के बीच केपटाउन में खेले जा रहे तीसरे और अंतिम टेस्ट मैच का लुत्फ ले रहे हैं. इस टेस्ट मैच के दौरान दोनों टीमों के तेज गेंदबाजों ने पुछल्ले बल्लेबाजों के खिलाफ अपनी घातक गेंदबाजी का मुजायरा किया. उन्होंने एक ही ओवर में 7 से 9 गेंदें फेंकने के लिए नो बॉल भी फेंकीं, जिस पर स्टेन ने ट्वीट कर कुछ इस अंदाज में प्रतिक्रिया दी है. स्टेन ने यह सुझाव देते हुए कहा कि इससे पुछल्ले बल्लेबाजों को लंबे ओवरों से बचने में मदद मिलेगी, जिसमें गेंदबाज ‘नो बॉल’ फेंकते हैं.

https://twitter.com/DaleSteyn62/status/1481265119736827906?s=20

सीमित ओवरों के क्रिकेट में अगर गेंदबाज ‘नो बॉल’ डालता है तो बल्लेबाजी कर रही टीम को ‘फ्री हिट’ दिया जाता है. स्टेन ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘टेस्ट क्रिकेट में ‘नो बॉल’ के लिए ‘फ्री हिट’….आप क्या सोचते हो? इससे निश्चित रूप से गेंदबाजों को (बल्लेबाजी करते हुए) उन सात-आठ गेंद तक हुए और कभी कभी नौ गेंद के ओवर में बचे रहने में मदद मिलेगी.’

https://twitter.com/DaleSteyn62/status/1481276595549741061?s=20

उन्होंने कहा, ‘पुछल्ले बल्लेबाजों के लिए शीर्ष स्तरीय खतरनाक तेज गेंदबाज की छह गेंद का सामना करना ही काफी होता है.’ इस मौके पर उन्होंने भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) की भी प्रशंसा, की जिन्होंने 42 रन देकर पांच विकेट झटके.

स्टेन ने कहा, ‘इस पर चर्चा करना दिलचस्प होगा. यहां गंभीर टेस्ट मैच हो रहा है, जिसमें बुमराह ने पांच विकेट चटकाकर अच्छी गेंदबाजी की.’

(इनपुट: भाषा)