केपटाउन टेस्ट (Cape Town Test) हारकर भारतीय टीम साउथ अफ्रीका (IND vs SA) के खिलाफ 3 मैचों की सीरीज 1-2 से हार गई. भारत के पास यहां पहली बार टेस्ट सीरीज जीतने का सुनहरा मौका था. लेकिन आखिरी और निर्णायक टेस्ट की दूसरी पारी में बल्लेबाजों के खराब खेल ने सारा खेल बिगाड़ दिया. भारत की इस हार के लिए अनुभवी बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) और अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को माना जा रहा है, जो लंबे समय से खराब फॉर्म में चल रहे हैं. मैच के बाद जब कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) प्रेस कॉन्फ्रेंस में आए तो उनसे दोनों खिलाड़ियों पर सवाल पूछा गया.

इसके जवाब में विराट (Virat Kohli) ने साफ कर दिया कि दोनों खिलाड़ियों को चयनकर्ता चाहें तो बाहर कर सकते हैं लेकिन अगर उन्हें टेस्ट टीम में रखा जाता है तो वह उन दोनों खिलाड़ियों को पूरा सपॉर्ट करेंगे. दरअसल पत्रकार वार्ता में विराट से सवाल किया गया था कि दोनों ही बल्लेबाज लंबे समय से फॉर्म में नहीं हैं.

ऐसे में आखिर कब तक उन्हें मौके दिए जाएंगे. इन दोनों खिलाड़ियों को और कब प्लेइंग XI में बनाए रखने का विचार है. इस पर कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने कहा, ‘जैसा मैं पहले भी कह चुका हूं कि हम दोनों खिलाड़ियों को अंत तक सपॉर्ट करेंगे. इन दोनों ने ही अतीत में भारत के लिए शानदार काम किया है.’

इसके अलावा उन्होंने दो टूक कहा कि दोनों का भविष्य चयनकर्ताओं के हाथ में हैं. उन्होंने कहा, ‘अगर सिलेक्टर उन्हें टीम में रखेंगे तो हम दोनों खिलाड़ियों को पूरा समर्थन देंगे. हां अगर चयनकर्तओं ने कुछ और सोच रखा है तो इस पर मैं कुछ नहीं कह सकता हूं. यह उनका काम है.’

यानी विराट ने साफ कर दिया है कि अगर टीम मैनेजमेंट सोच रहा है कि अब दोनों खिलाड़ियों को बदलने का वक्त आ गया है तो यह काम चयनकर्ताओं को ही करना होगा. अगर दोनों खिलाड़ी टेस्ट टीम में चुने जाते हैं तो उन्हें कप्तान विराट कोहली का पूरा समर्थन मिलेगा. रहाणे और पुजारा दोनों ने ही इस सीरीज में एक-एक बार फिफ्टी जमाई है.