इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) अपनी शुरुआत से ही प्रतिभा की कद्र करना जानती है. इस लीग इससे पहले 14 सालों में पहले भी कई प्रतिभाशाली खिलाड़ियों की किस्मत बदली और यह दस्तूर इस बार भी जारी रहा. इस बार कई युवा चेहरे अपनी किस्मत लेकर ऑक्शन में उतरे थे और लीग की 10 टीमों ने उन्हें पहचान कर उन पर खूब धन भी लुटाया. ऐसी ही कहानी हैदराबाद के 19 वर्षीय तिलक वर्मा (Tilak Verma) की है, जिसे मुंबई इंडियन्स (MI) ने कुछ ही पलों में करोड़पति बना दिया. कभी इस खिलाड़ी के परिवार के पास उन्हें क्रिकेट अकैडमी भेजने तक के पैसे नहीं थे. लेकिन इस बार मुंबई ने उन्हें 1 करोड़ 70 लाख रुपये में खरीदा है.

तिलक वर्मा के पिता हैदराबाद के चंद्रयानगुट्टा में इलेक्ट्रीशियन हैं. वह छोटी उम्र से ही बैटिंग में माहिर होता जा रहा था. उसका स्टांस, कट और पुल शॉट आकर्षक हैं. लेकिन उनके पिता के पास बेटे की यह प्रतिभा निखारने के लिए पैसा नहीं था. ऐसे में उनके कोच आए आए, जिन्होंने उनकी क्रिकेट का खर्च भी उठाया और इस खिलाड़ी को निखारने में भी खूब भूमिका अदा की.

इस तरह से वह 9 साल का लड़का, जो कभी हैदराबाद के चंद्रयानगुट्टा इलाके की गलियों में खेल रहा था आज 19 वर्ष की उम्र में इंडियन प्रीमियर लीग की नीलामी (IPL Auction 2022) में 1.7 करोड़ रुपये में खरीदा गया है. 20 लाख की बेस प्राइज वाले इस खिलाड़ी में सनराइजर्स हैदराबाद (SRH) और मुंबई इंडियन्स (MI) ने खासी दिलचस्पी दिखाई और आखिरकार मुंबई ने इसमें बाजी मार ली.

इस युवा खिलाड़ी ने इस मुकाम पर पहुंचाने का श्रेय अपने कोच सलाम बायश को दिया, जिन्होंने उन्हें जरूरी साजो सामान और कोचिंग के अलावा भोजन और जरूरत पड़ने पर अपने घर में रहने के लिए भी जगह दी.

वर्मा के पिता नम्बूरी नागराजू अपने बेटे को क्रिकेट अकादमी भेजने की स्थिति में नहीं थे लेकिन सलाम ने उसके सभी खर्चों को वहन किया, जिसके दम पर आज वह इस मुकाम पर पहुंचा है. तिलक वर्मा ने पीटीआई से कहा, ‘मेरे बारे में भले ही ना लिखें लेकिन मेरे कोच सर का जिक्र जरूर करना.’

(इनपुट: भाषा)