Indian Premier League 2022, Lucknow Super Giants vs Royal Challengers Bangalore Eliminator: लखनऊ सुपर जायंट्स ने अपने पहले ही आईपीएल सीजन में शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन यह टीम खिताब से चूक गई. एलिमिनेटर मैच में उसे रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने शिकस्त दी, जिसके साथ लखनऊ के अभियान का समापन हो गया. आरसीबी ने लखनऊ के सामने जीत के लिए 208 रन का लक्ष्य रखा था, लेकिन कप्तान केएल राहुल (KL Rahul) ने पावरप्ले के अंत तक धीमी बल्लेबाजी की, जब तक कि अंतिम सात ओवरों में 99 रन की जरूरत नहीं पड़ी. तब उन्होंने तेज बल्लेबाजी शुरू की, इसके बाद राहुल ने 136 के स्ट्राइक रेट से 58 गेंदों में 79 रन बनाए, लेकिन लखनऊ को क्वालीफायर 2 तक ले जाने के लिए यह पर्याप्त नहीं था. अब राहुल की धीमी पारी के बाद पर सवाल उठाए गए हैं.

ईएसपीएन क्रिकइन्फो के हवाले सें संजय मांजरेकर (Sanjay Manjrekar) ने कहा, “केएल राहुल खुद ऐसा करने की क्षमता रखते हैं. आप देखते हैं कि हर बार जब उन्होंने बड़े शॉट खेलने का फैसला किया, तो वह बेहतर कर पाए हैं. उन्होंने जोश हेजलवुड के खिलाफ कुछ शानदार शॉट खेले. लेकिन उन्होंने अपना दृष्टिकोण बदल लिया था, जिससे वह तेज खेलने के बजाय लंबे समय तक बल्लेबाजी करना चाहते थे.”

मांजरेकर ने कहा, “अगर मैं उनका कोच होता, तो मैं उन्हें तेज बल्लेबाजी करने को कहता, भले ही वह कप्तान हों, क्योंकि हमने बहुत सारे मैच देखे हैं, जहां टीमों को बहुत फायदा होगा अगर केएल राहुल सिर्फ लंबे समय के बजाय तेज बल्लेबाजी करते हैं.”

मांजरेकर ने आगे टिप्पणी की है कि राहुल टीम में मुख्य बल्लेबाजी का जिम्मा नहीं उठा सकते, खासकर जब वह आईपीएल में कप्तानी कर रहे हों, ऐसा कुछ जो एमएस धोनी या विराट कोहली जैसे कप्तान ने किया है. मांजरेकर ने राहुल को अकेले मैच जीतने का बोझ उठाने के बजाय बल्लेबाजी करते हुए मस्ती करने और खुद को अभिव्यक्त करने की सलाह दी. उन्होंने कहा, “एक कोच के रूप में, मैं उन्हें यह बताने की कोशिश करता कि मैं आपसे मैच जीतने की उम्मीद नहीं कर रहा हूं. आप बस मैदान पर जाओ और मजे से बल्लेबाजी करो. आप देखेंगे कि परिणाम आने शुरू हो गए हैं.”