आईपीएल (IPL 2022) में कुलदीप यादव (Kuldeep Yadav) को अपनी टीम बदलने का मौका क्या मिला उनकी किस्मत भी बदल गई. इस सीजन वह लगातार विकेट निकाल रहे हैं और अपनी टीम के लिए शानदार भूमिका निभा रहे हैं, जबकि इससे पहले कुलदीप के लिए इस लीग में पिछले दो से तीन सीजन बिल्कुल निराशाजनक बीते थे, जब केकेआर ने उन्हें मौके देने बंद कर दिए.

इस गेंदबाज ने दर्शा दिया कि वह चैंपियन गेंदबाज हैं और अगर उन्हें टीम कॉन्फिडेंस में लेकर मौका दे तो वह प्रभावशाली गेंदबाज बन सकते हैं. सोमवार को दिल्ली और पंजाब के मैच से पहले उन्होंने इस आईपीएल में अपनी सफलता का राज साझा किया. स्टार स्पोर्ट्स के प्रेजेंटेटर और भारत के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज दीपदास गुप्ता ने आज मैच शुरू होने से पहले इस युवा चाइनामैन गेंदबाज से चर्चा की.

इस दौरान गुप्तान ने उनसे इस सीजन कामयाबी का राज पूछा, इसके जवाब में कुलदीप ने कहा, ‘इस बार मैं मानसिक रूप से स्पष्ट हूं. मुझे पता है कि मुझे क्या करना है. इससे पहले मैं चोटिल था, तो सर्जरी के चलते ज्यादा क्रिकेट नहीं खेला था. लेकिन फिट होकर भारतीय टीम में और आईपीएल में मौका मिला तो अच्छा खेल दिखाने का मौका मिला.’

उन्होंने कहा, ‘कामयाबी में कई फैक्टर जिम्मेदार होते हैं. मेहनत के साथ-साथ टीम मैनेजमेंट और कप्तान का सपॉर्ट भी बहुत जरूरी होता है और दिल्ली की टीम में यह दोनों ही मुझे भरपूर रूप में मिले हैं.’

इस बीच 27 वर्षीय इस युवा स्पिनर से जब पूछा गया कि वह इस सीजन आईपीएल के चारों मैदानों पर क्रिकेट खेले हैं तो विकेट झटकने के लिहाज से उनका फेवरेट मैदान कौन सा है. उन्होंने बारी-बारी चारों मैदानों पर अपनी राय रखी.

उन्होंने ब्रेबोर्न स्टेडियम को अपना फेवरेट बताया. जबकि यह भी कहा वानखेड़े का मैदान पहले स्पिनरों के लिए मुश्किल था क्योंकि उनकी यहां खूब पिटाई हो रही थी लेकिन अब पिचें धीमी हो गई हैं तो यहां भी स्पिनर के विकेट लेने का चांस बन गया है.

बता दें कुलदीप ने इस सीजन अभी तक 12 मैचों में 18 विकेट अपने नाम किए हैं. वह सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाजों की फेहरिस्त में छठे पायदान पर हैं.