×

ईशान किशन 15 करोड़ की राशि में खरीदने लायक खिलाड़ी नहीं थे: शेन वॉटसन

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर ने दो टूक कही यह बात- ईशान किशन प्रतिभाशाली बल्लेबाज हैं लेकिन वह इतनी बड़ी राशि में खरीदने लायक नहीं थे.

ईशान किशन @IPL-BCCI

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ऑलराउंडर और दिल्ली कैपिटल्स (DC) के मौजूदा सहायक कोच शेन वॉटसन (Shane Watson) ने मुंबई इंडियंस (MI) की इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2022) नीलामी में ईशान किशन पर 15 करोड़ रुपये की राशि खर्च करने के लिए आलोचना करते हुए कहा कि यह प्रतिभाशाली सलामी बल्लेबाज इतनी राशि में खरीदने लायक नहीं था. वॉटसन ने साथ मुंबई इंडियंस की चोटिल जोफ्रा आर्चर को इतनी बड़ी राशि में खरीदने के लिए आलोचना की.

मुंबई इंडियंस अभी तक पांच मैचों में एक भी जीत दर्ज नहीं कर सकी है, जिसने किशन को खरीदने के लिए 15.25 करोड़ रूपये और आर्चर को खरीदने के लिए 8 करोड़ रुपये खर्च किए थे. आर्चर अभी भी कोहनी की चोट से उबर रहे हैं. पांच बार की चैम्पियन ने रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह, सूर्यकुमार यादव और कीरोन पोलार्ड को रिटेन किया था.

वाटसन ने ‘द ग्रेड क्रिकेटर’ पोडकास्ट में बातचीत में कहा, ‘मुंबई इंडियंस तालिका में निचले स्थान पर है, मुझे इसमें कुछ हैरानी नहीं हो रही क्योंकि उन्होंने नीलामी में हैरानी भरे फैसले किए.’

उन्होंने कहा, ‘ईशान किशन को खरीदने में इतनी सारी राशि खर्च करना. वह काफी प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं लेकिन वह इतनी सारी राशि खर्च करने लायक खिलाड़ी नहीं है.’ वॉटसन ने कहा, ‘फिर जोफ्रा आर्चर के बारे में पता नहीं था कि वह खेलने आएगा या नहीं. वह काफी समय से क्रिकेट नहीं खेला है. टीम के कुछ फैसले खराब रहे.’

गत चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) को भी चार हार का सामना करना पड़ा, जिसके बाद उसने रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (RCB) पर 23 रन की जीत से खाता खोला. आईपीएल में सीएसके के लिए खेल चुके वॉटसन ने कहा, ‘सीएसके के साथ सबसे बड़ा मुद्दा है कि उनकी तेज गेंदबाजी में कुछ खामी है.’

उन्होंने कहा, ‘पिछले साल उनके पास शार्दुल ठाकुर था. दीपक चाहर चोटिल हो गया है. उन्होंने नीलामी में उस पर काफी खर्चा किया लेकिन अब वह टूर्नामेंट के काफी हिस्से में अनुपलब्ध होगा, जो उनके लिए नुकसानदायक है.’

उन्होंने कहा, ‘उनके पास जोश हेजलवुड जैसा विदेशी तेज गेंदबाज नहीं है. इससे पहले उनके पास हमेशा विश्व स्तरीय विदेशी तेज गेंदबाज रहा है. इसलिए वे जूझ रहे हैं.’

trending this week