ऑस्ट्रेलिया की टीम 24 साल बाद पाकिस्तान (Australia Tour of Pakistan) का दौरा करेगी. पहले माना जा रहा था कि सुरक्षा कारणों के चलते ऑस्ट्रेलिया के बड़े कद के खिलाड़ी इस देश का दौरा नहीं करेंगे. लेकिन क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (CA) अपने प्राइम टीम को लेकर पाकिस्तान उतरने की तैयारी कर रही है. अभी तक ऑस्ट्रेलिया के किसी भी खिलाड़ी ने पाकिस्तान का दौरा नहीं करने की आशंका नहीं जताई है. पाकिस्तान की टीम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक दशक के बाद किसी बड़ी टीम की मेजबानी करेगी.

पाकिस्तान ने पिछली बार अपनी सरजमीं पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के टूर्नामेंट का आयोजन 1996 में किया था, जब उसने भारत और श्रीलंका के साथ वर्ल्ड कप की सहमेजबानी की थी. 2009 में श्रीलंका की टीम बस पर आतंकी हमले के बाद से देश में 2019 तक टेस्ट क्रिकेट का आयोजन नहीं हो पाया.

पिछले साल भी टी20 वर्ल्ड कप से पहले न्यूजीलैंड और इंग्लैंड की टीम सुरक्षा कारणों से पाकिस्तान दौरे से हट गईं थी. न्यूजीलैंड ने तो मैच से ठीक पहले हटने का फैसला किया. ऑस्ट्रेलिया की टीम 24 साल में पहले पाकिस्तान दौरे की राह पर है. राष्ट्रीय चयनकर्ता जॉर्ज बेली ने सुरक्षा योजना को काफी मजबूत करार दिया है.

क्रिकेट आस्ट्रेलिया (CA) की वेबसाइट के अनुसार बेली ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, ‘मेरा मानना है कि दोनों बोर्ड अब भी दौरे को लेकर कुछ मामूली चीजों पर काम कर रहे हैं, इसलिए एक बार इन्हें औपचारिक स्वीकृति मिलने के बाद हम टीम की घोषणा करेंगे लेकिन हम काफी हद तक सही दिशा में जा रहे हैं.’

ऑस्ट्रेलिया ने पिछली बार 1998 में मार्क टेलर (Mark Taylor) की अगुआई में पाकिस्तान का दौरा किया था. पाकिस्तान दौरे को लेकर सभी चीजें सकारात्मक हैं लेकिन शेफील्ड शील्ड सत्र की बहाली को लेकर अनिश्चितता बरकरार है. चयनकर्ताओं को हालांकि एशेज में इंग्लैंड पर ऑस्ट्रेलिया की 4-0 की जीत के बाद शील्ड टूर्नामेंट में खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर गौर करने की जरूरत नहीं पड़े.

(इनपुट: भाषा)