भारतीय टीम का कोच नियुक्त होने के बाद पूर्व भारतीय कप्तान और दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) के लिए उनका पहला विदेशी दौरा फीका रहा है. भारतीय टीम यहां टेस्ट और वनडे में बुरी तरह हारकर घर लौट रही है. तीन टेस्ट की सीरीज में वह सिर्फ एक ही मैच जीत पाई, जबकि इतने ही वनडे मैचों की सीरीज में मेजबान टीम ने उसका 3-0 से सफाया कर दिया. सीरीज के बाद राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) ने कहा कि खिलाड़ियों को स्थिरता और सुरक्षा मिलेगी. लेकिन उनसे भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है.

साउथ अफ्रीकी टीम भी खुद को नए सिरे से तैयार कर रही है. वह मैदान के बाहर कई मसलों और टीम में बदलाव के दौर से जूझ रही है. लेकिन इसके बावजूद उसने भारत को दोनों सीरीज में पटखनी दी है. भारतीय टीम यहां वनडे सीरीज में मिडल ऑर्डर के लचर प्रदर्शन के चलते हार गई. कोच द्रविड़ उनमें से नहीं हैं जो खिलाड़ियों का नाम लेकर कुछ कहें लेकिन मिडल ऑर्डर के कुछ बल्लेबाजों को कई मौके दिए जाने के बाद प्रदर्शन की उम्मीद से उनका आशय श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) और ऋषभ पंत (Rishabh Pant) की ओर था.

उन्होंने तीसरे वनडे के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘हमने उन्हें लगातार मौके दिए हैं और हम चाहते हैं कि वह अपनी जगह को लेकर सुरक्षित महसूस करें.’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन सुरक्षा और मौके देने के साथ आप प्रदर्शन की भी उम्मीद करते हैं. इस स्तर पर खेलने वालों से यही अपेक्षा रहती है कि जरूरत के समय वे अच्छा प्रदर्शन करें. हम हरसंभव स्थिरता रखना चाहते हैं.’

श्रेयस तीन मैचों में 17, 11 और 26 रन ही बना सके. द्रविड़ ने कहा, ‘आप चौथे, 5वें या छठे नंबर पर बल्लेबाजी कर रहे हैं तो आपको पता होना चाहिए कि टीम की जरूरत क्या है. श्रेयस तीनों मैचों में जल्दी आउट हो गए. हमें पता है कि ये सभी अच्छा प्रदर्शन करते आए हैं और हम हरसंभव उनका साथ देंगे. लेकिन टीम में हर जगह के लिए प्रतिस्पर्धा बहुत है और इन हालात में यह आसान नहीं होता.’

(इनपुट: भाषा)