मैनचेस्‍टर टेस्‍ट अधर में अटकने के बाद भारतीय टीम के तमाम क्रिकेटर यूएई चले गए हैं, जहां उन्‍हें 19 सितंबर से अपनी-अपनी फ्रेंचाइजी के लिए आईपीएल में खेलना है. हालांकि कोरोना वायरस की चपेट में आने के बाद मुख्‍य कोच रवि शास्‍त्री और उनका कोचिंग स्‍टाफ अभी भी इंग्‍लैंड में ही फंसा हुआ है.

रवि शास्‍त्री सहित भरत आरुण और आर श्रीधर के भारत लौटने की तारीख सामने आ गई है. बताया जा रह है कि बुधवार, 15 सितंबर वो अपना 10 दिन का एकांतवास पूरा करने के बाद भारत लौट जाएंगे. हालांकि ऐसा सशर्त ही संभव है.  सभी को पहले दो आरटीपीसीआर रिपोर्ट में नेगेटिव आना होगा. इसके बाद ही उन्‍हें भारत लौटने की इजाजत दी जाएगी.

ब्रिटिश मीडिया का आरोप है कि 1 सितंबर को रव‍ि शास्‍त्री ने एक बुक लांच प्रोग्राम का आयोजन किया था. यहीं से वायरस बायो-बबल में आया. रविवार को शास्‍त्री ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि यूके में सब कुछ तो खुला है. ऐसे में उनपर आरोप नहीं लगाया जा सकता है. वायरस कहीं से भी बायो-बबल में आ सकता है.

शास्त्री ओवल में चौथे टेस्ट से पहले कोविड-19 जांच में पॉजिटिव आये थे जिसके बाद से वह चार सितंबर से पृथकवास में हैं. उनका अरूण और श्रीधर के साथ 10 दिन का पृथकवास सोमवार को खत्म होने की उम्मीद है.

हालांकि इन तीनों को ब्रिटेन से भारत के लिये रवाना होने से पहले आरटी-पीसीआर जांच में नेगेटिव आने की जरूरत होगी. फिर उनके इंडियन प्रीमियर लीग के बाद दुबई में कड़े ‘बायो-बबल’ से जुड़ने की उम्मीद है जब भारतीय टीम टी20 विश्व कप अभियान के लिये इकट्ठा होगी.

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) के वरिष्ठ अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘‘रवि, श्रीधर और अरूण को कोई समस्या नहीं है और उन्हें कोई ज्यादा लक्षण नहीं है. वे सोमवार को अपना आरटी-पीसीआर परीक्षण करायेंगे और अगर सब ठीक रहता है तो वे रवानगी की पूर्व निर्धारित तारीख पर रवाना हो सकते हैं जो 15 सितंबर है. अंतिम फैसला चिकित्सीय टीम द्वारा लिया जायेगा. ’’

इस बीच भारतीय दल के अन्य सहयोगी स्टाफ सदस्य सोमवार दोपहर को कमर्शियल फ्लाइट से दुबई से होते हुए भारत पहुंचेंगे.

आठ सितंबर को पॉजिटिव आने वाले जूनियर फिजियो योगेश परमार कुछ और दिन पृथकवास में रहेंगे और पृथकवास पूरा होने पर ही स्वदेश रवाना होंगे.

भारत और इंग्लैंड के बीच ओल्ड ट्रैफर्ड में पांचवां टेस्ट मैच रद्द कर दिया गया था क्योंकि विराट कोहली ने संक्रमण के डर से अपनी टीम को मैदान पर उतारने से इनकार कर दिया था.

इस एकमात्र टेस्ट के अगले साल जुलाई में होने की संभावना है लेकिन इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद से संपर्क किया है ताकि उसकी विवाद समिति द्वारा इस मुद्दे का जल्द निपटारा कर दिया जाये.