The Hundred League: ऑस्‍ट्रेलिया की टीम के पूर्व कप्‍तान इयान चैपल (Ian Chappell) क्रिकेट के नए स्‍वरूप द हंड्रेड से ज्‍यादा प्रभावित नहीं हैं. यही वजह है कि उन्‍होंने कहा कि टी20 क्रिकेट के बाद अब हमें इससे छोटे किसी भी प्रारूप की जरूरत नहीं है.

ईएसपीएन क्रिकइन्‍फो से बातचीत के दौरान इयान चैपल (Ian Chappell) ने कहा, “द हंड्रेड जैसे छोटे प्रारूप को लाने के पीछे की मुख्‍य वजह टीवी राइट्स के माध्‍यम से मोटी कमाई करने के साथ-साथ से ओलंपिक में इसे जगह दिलाने की कोशिश हो सकती है. अक्‍सर ये कहा जाता है कि खेल को छोटा करने से इसे ज्‍यादा से ज्‍याद लोगों तक पहुंचाया जा सकता है. टी20 फॉर्मेट ऐसा कर सकता है. खेल को छोटा किए बना हम इसे पा सकते हैं.”

इयान चैपल ने कहा, “क्रिकेट एक टीम गेम है जिसे 11 खिलाड़ी खेलते हैं. अपने प्रदर्शन पर संतुष्‍टी एक ऐसी चीज है जिसके लिए युवा इस खेल को पसंद करते हैं. किसी नए फॉर्मे को लाने से पहले प्रशासकों को इसपर ध्‍यान देना चाहिए.”

इयान चैपल (Ian Chappell) ने द हंड्रेड (The Hundred League) को एक दम बेकार फॉर्मेट बताते हुए कहा, “छोटे खेल की मार्केट में टी10 लीग पहले से चल रहा है. द हंड्रेड एक जरिया है जो इस तरह के छोटे क्रिकेट को मेन स्‍ट्रीम में लाना चाहता है.”

तीन साल के लंबे इंतजार के बाद इंग्‍लैंड एंड वेल क्रिकेट बोर्ड ने हाल ही में द हंड्रेड टूर्नामेंट के पहले सीजन की शुरुआत की. भारतीय दिग्‍गज सुनील गावस्‍कर ने बीते दिनों द हंड्रेड पर टिप्‍पणी करते हुए इसे एक दम फीका टूर्नामेंट करार दिया था.