Greatest Moments of T20 World Cup: छठे टी20 वर्ल्ड कप (T20 World Cup 2021) की तारीख अब नजदीक आ गई है. इससे पहले टी20 वर्ल्ड कप की सुनहरी यादों को ताजा किया जा रहा है. इस टर्नामेंट में उन पलों को याद किया जा रहा है, जो इस खेल के ‘महान क्षण’ (ग्रेटेस्ट मोमेंट्स) में शुमार हों. 5 साल पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) द्वारा खेली गई एक पारी को इन पलों में सबसे नायाब माना गया और कोहली की इस पारी को ग्रेटेस्ट मोमेंट्स (Greatest Moments) का खिताब दिया गया.

विराट कोहली (Virat Kohli) ने यह शानदार पारी ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2016 के टी20 वर्ल्ड कप में खेली थी, जिसमें उन्होंने नाबाद 82 रन बनाए थे. इस अवॉर्ड की दौड़ में विराट की इस पारी का मुकाबला वेस्टइंडीज के कार्लोस ब्रेथवेट की वर्ल्ड कप फाइनल में अंतिम ओवर में जमाए मैच विनिंग 4 छक्कों से था. ब्रेथवेट ने इस मैच में इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम ओवर में 24 रन बनाए और वेस्ट इंडीज को 2016 T20 वर्ल्ड कप का खिताब जिताने में कामयाबी दिलाई. विराट ने 68 फीसदी वोटों से यह अवॉर्ड जीत लिया.

कोहली की उस पारी की अगर बात करें तो भारत का 2016 वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ यह मैच सुपर 10 चरण के ग्रुप 2 का आखिरी मैच था. यह मोहाली के मैदान पर खेला गया. इस मैच से पहले दोनों टीमों का अभियान इस तरह चला कि उनका आखिरी ग्रुप स्टेज मैच दोनों के लिए ही करो या मरो की स्थिति में था. भारत को न्यूजीलैंड के साथ सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 161 रन चाहिए थे.

मेजबान टीम 8 ओवरों में 49/3 पर सिमट गई और युवराज सिंह (Yuvraj Singh) को अपना टखना घुमाते और दर्द से लंगड़ाते देखा गया. लेकिन कोहली के क्रीज पर आने के बाद कॉमेंट्री बॉक्स से नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने कहा था, ‘जितना बड़ा मौका होगा, कोहली उतना ही अधिक योगदान देना चाहेंगे.’

कोहली ने यहां 39 गेंदों में अपनी फिफ्टी पूरी करने के लिए सतर्कता के साथ अपनी पारी खेली और फिर जब टीम इंडिया को 21 गेंदों में 45 रन की जरूरत थी. कोहली ने अगले ओवर में जेम्स फॉल्कनर को 19 रन पर ले जाने के लिए तुरंत गियर बदल दिए, जिससे आवश्यक रन-रेट 10 हो गया. अंतिम दो ओवरों में 19 की जरूरत थी और कोहली ने नाथन कूल्टर-नाइल के खिलाफ चार चौके लगाए.

अगले ओवर की शुरुआत में, कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) ने लॉन्ग-ऑन पर एक स्लॉग के साथ मैच का अंत किया, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं था कि कौन एक अविस्मरणीय बल्लेबाजी मास्टरक्लास लाया और ऑस्ट्रेलिया को हराने के लिए 51 गेंदों पर 82 रन बनाकर नाबाद रहे. कोहली का जोश भरा जश्न बताता है कि जीत और दस्तक उनके लिए कितनी मायने रखती है.

(आईएएनएस से)