CSA is looking at long-term players’ contracts to stop defection due to KOLPAK deal
South Africa team (File Photo) @ AFP

क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट (सीएसए) के शीर्ष अधिकारी कोरी वान जाइल ने कहा है कि बड़ी संख्या में क्रिकेटर राष्ट्रीय टीम की जगह काउंटी क्रिकेट को तरजीह दे रहे हैं जिसे रोकने के लिए बोर्ड दीर्घकालीन करार लाने पर विचार कर रहा है।

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज और अंतरिम कोच जाइल ने माना कि बोर्ड प्रतिभाशाली क्रिकेटरों को लेकर गंभीर है जो कोलपैक डील के जरिए इंग्लैंड में काउंटी क्रिकेट खेल रहे हैं। जाइल सीएसए के क्रिकेट निदेशक भी हैं।

पढ़ें:- ‘कोलपैक डील’ बनी साउथ अफ्रीका क्रिकेट के लिए बड़ा खतरा, जानिए क्‍या है ये?

कोलपैक डील के तहत यूरोपीय यूनियन के किसी भी सदस्य देश के साथ मुक्त व्यापार करार वाले देश के खिलाड़ी पेशेवर के तौर पर कहीं भी खेल सकते हैं।

पिछले 15 साल (2004 से) में कोलपैक खिलाडियों में सबसे बड़ी संख्या दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ियों की है। टीम को हाल के वर्षों में काइल एबोट (2017) और डुआने ओलिवर (2019) के जाने से नुकसान हुआ है।

जाइल ने कहा, ‘‘यह तो खिलाड़ी ही बेहतर तरीके से बता पाएंगे कि उन्होंने कोलपैक करार क्यों किया। मैं इस पर कोई कयास नहीं लगा सकता। क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका के लिए यह जरूरी है कि हम सर्वश्रेष्ठ प्रतिभा को अपने पास बरकरार रखें।’’

पढ़ें:- विराट बोले- T20I WC से पहले हमारे पास 30 मैच, किसी एक युवा को नहीं देंगे…

जाइल ने कहा कि वह लंबे समय के अनुबंध पर काम कर रहे हैं। ‘‘ केन्द्रीय अनुबंध इसका एक पहलू है। हम दीर्घकालिक अनुबंध और सेवा प्रोत्साहन योजनाओं के बारे में सोच रहे हैं। हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट बिरादरी खिलाड़ियों की बातों को समझे। ऐसे में यह कई चीजों पर निर्भर करेगा।’’