डेरेन सैमी © Getty Images
डेरेन सैमी © Getty Images

पाकिस्तान बनाम वर्ल्ड इलेवन सीरीज में पाकिस्तान के सरफराज अहमद ने टॉस के दौरान कोई भी स्पेशल सिक्के का इस्तेमाल नहीं किया। इसकी पुष्टि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के चेयरमैन नजम सेठी ने की। बहरहाल, वर्ल्ड इलेवन टीम के सभी खिलाड़ियों को एक सिल्वर कॉइन जरूर दिया गया। गौरतलब है कि पाकिस्तान में इस बड़ी सीरीज का आयोजन साल 2009 में श्रीलंका टीम पर हुए आतंकवादी हमले के बाद हुआ है। सिक्का क्रिकेट वेस्टइंडीज के अध्यक्ष डेव कैमरून को भी दिया गया।

कैमरून ने रिपोर्टरों से बातचीत में बताया कि उन्हें वही कॉइन दिया गया है जो अन्य खिलाड़ियों को दिया गया। दिलचस्प बात यह रही कि कैमरून जो अन्य आगंतुकों में से एक थे, वह खिलाड़ियों को पुरस्कार देने के लिए भी खड़े रहे। वर्ल्ड इलेवन टीम के अन्य खिलाड़ियों ने मैडेल लिया लेकिन डैरेन सैमी डेविड कैमरून के हाथ से मैडेल लेने नहीं आए और उस समय टॉयलेट ब्रेक लेने का बहाना बना लिया। [ये भी पढ़ें: जॉनी बेयरस्टो के शतक ने वेस्टइंडीज की वर्ल्ड कप में ‘डायरेक्ट एंट्री’ रोकी]

सूत्रों के मुताबिक, “पाकिस्तान सुपर लीग के एक मैच में प्रेजेंटेशन के दौरान उन्होंने टॉयलेट ब्रेक लिया था। लेकिन इस बार उन्होंने टॉयलेट जाने का बहाना बनाया।” सैमी के अपने क्रिकेट बोर्ड के साथ संबंध उतने बढ़िया नहीं हैं जितने कि होने चाहिए। कैमरून से जब सैमी की इस हरकत के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बात करने से इंकार कर दिया। बहरहाल, कैमरून सीरीज के लिए सिक्यूरिटी और अन्य इंतजामों से खासे खुश नजर आए और वह वेस्टइंडीज टीम को पाकिस्तान द्विपक्षीय सीरीज खेलने के लिए भेज सकते हैं। वेस्टइंडीज टीम में हाल ही में बड़े खिलाड़ियों की वापसी हुई है जिसके चलते वह पहले के मुकाबले खासी मजबूत हो गई है।