David Warner like all top players have an unquenchable thirst to have success in the game, says Tom Moody
हैदराबाद के कोट टॉम मूडी, मेंटोर वीवीएस लक्ष्मण के साथ डेविड वार्नर (Twitter)

इंडियन प्रीमियर लीग के 12वें सीजन में अब तक खेले 4 मैचों में तुल 264 रन बना चुके डेविड वार्नर की सनराइजर्स हैदराबाद के कोच टॉम मूडी ने जमकर तारीफ की है। बॉल टैंपरिंग मामले के चलते पिछला सीजन ना खेल पाए वॉर्नर ने इस सीजन जबरदस्त वापसी की और रनों का अंबार लगा दिया। मूडी का मानना है कि हर बड़े खिलाड़ी की तरह वार्नर के अंदर भी सफलता हासिल करने की भूख है।

दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ मैच में जीत हासिल करने के बाद मूडी ने कहा, “वो उस्ताह और दृढ़ संकल्प के साथ बहुत कुछ साबित करने आया है। एक बात जो कि डेविड वार्नर में है, और जो हर बड़े खिलाड़ी में होती है- वो है खेल में सफलता पाने की बेइंतहा भूख। जो कि बिल्कुल भी कम नहीं हुई है। हां, 12 महीनों के लिए उसे मुख्यधारा क्रिकेट से बाहर बैठना पड़ा लेकिन वार्नर पिछले 6 महीनों से अपने कमबैक की तैयारी कर रहा था।”

ये भी पढ़ें: IPL 2019: फिर फ्लॉप हुए रिषभ पंत, दिल्ली-हैदराबाद मैच के अहम फैक्टर

वार्नर की तैयारी को लेकर मूडी ने कहा, “उसने इन 12 महीनों में कुछ फ्रेंचाइजी वाले टी20 टूर्नामेंट खेले। उसने सिडनी में जाकर क्लब क्रिकेट खेला। हालांकि उसका स्तर वैसा नहीं है लेकिन वो तकनीकि के बजाय मानसिक तौर पर तैयारी कर रहा था। उसके खेल की तकनीकि अच्छी है इसलिए बात केवल खुद को मानसिक तौर पर तैयार करनी की थी।”

बैन के दौरान मजबूत हुई मानसिकता

12 महीनों के बैन के दौरान बतौर क्रिकेटर वार्नर की शख्सियत में आए बदलाव पर कोच मूडी ने कहा, “उसकी मानसिकता हमेशा से सकारात्मक थी। वो अब भी एक बहुत ही दृढ़ निश्चय वाला व्यक्ति है। मुझे लगता है कि उसे और स्मिथ (स्टीवन स्मिथ) और बैनक्रॉफ्ट (कैमरून बैनक्रॉफ्ट) को 12 महीनों में जो सहना पड़ा है, उसके लिए उन्हें मानसिक रूप से बहुत मजबूत होना पड़ता है, बहुत अधिक लचीलापन और एक बहुत ही सकारात्मक मानसिकता रखनी पड़ी क्योंकि इस समय के दौरान आप बड़ी आसानी से खुद को नकारात्मकता में धकेल सकते हैं।”

ये भी पढ़ें: दिल्‍ली के खिलाफ मैच में टॉस जीतना साबित हुआ अहम: जोनी बेयरस्‍टो

11वां सीजन ना खेलने के बाद 12वें सीजन में वापसी कर रहे वार्नर हैदराबाद टीम की कप्तानी नहीं कर रहे हैं, ना ही लीडरशिप ग्रुप में उनका आधिकारिक तौर पर उनका कोई हिस्सा है। टीम के कप्तान केन विलियमसन हैं और उप कप्तान भुवनेश्वर कुमार। इसके बावजूद वार्नर जैसे खिलाड़ी का अनुभव हमेशा की कप्तान और लीडरशिप ग्रुप के काम आता है। ऐसा कहना है कोच मूडी का।

उन्होंने कहा, “उसकी नेतृत्वक्षमता हमेशा ही मौजूद रहती है। उसके जितनी समझ, क्षमता और अनुभव वाला खिलाड़ी आईपीएल क्रिकेट में अमूल्य है। डेविड, बाकी खिलाड़ियों की तरह मौजूद कप्तान की मदद करना है, चाहे वो भुवी हो या केन। हर कई लीडरशिप को मजबूत करने में अपनी जिम्मेदारी अदा करता है।”