जेटली को कई भारतीय क्रिकेटरों ने अपना समर्थन दिया है  © Getty Images
जेटली को कई भारतीय क्रिकेटरों ने अपना समर्थन दिया है © Getty Images

नई दिल्ली। कांग्रेस सदस्यों के दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) से जुड़े कथित भ्रष्टाचार मामले में वित्त मंत्री अरुण जेटली के इस्तीफे की मांग को लेकर हंगामे करने की वजह से राज्यसभा की कार्यवाही सोमवार को भी बाधित रही। यह अवरोध शुक्रवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में कई लंबित विधेयकों का रास्ता साफ करने के लिए बनी एक सहमति के बाद उत्पन्न हुआ है। राज्यसभा सदस्यों के किशोर न्याय विधेयक की तात्कालिकता पर सहमत होने के बाद विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने डीडीसीए का मुद्दा उठाया और इसमें जेटली की कथित संलिप्तता का उल्लेख किया। ये भी पढ़ें: दिल्ली हाईकोर्ट ने डीडीसीए को कोटला पर मैच की मेजबानी पर अंतिम प्रस्ताव जारी किया

उप-सभापति पी.जे. कुरियन ने नबी की टीका-टिप्पणी को अपने रिकॉर्ड के जरिए काटा। दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ से जुड़े कथित भ्रष्टाचार मामले के चलते विपक्ष के निशाने पर आए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि वह किसी भी आरोप का जवाब देने के लिए तैयार हैं। उन्होंने विपक्ष से इस मुद्दे पर चर्चा कराने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि उन्होंने इस मुद्दे को लेकर संसद के बाहर उन पर लगाए गए आरोपों के खिलाफ कानूनी मदद ली है। जेटली ने कहा, “मुझे कोई परेशानी नहीं है। कुछ लोग संसद के बाहर आरोप लगाते हैं। मैंने कानून का सहारा लिया है। कृपया सारे दावों को छोड़ दीजिए और विपक्ष के नेता से मेरे खिलाफ किसी भी विषय पर चर्चा कराने के लिए कहिए। मैं तुरंत जवाब दूंगा।”  ये भी पढ़ें: सहवाग, गंभीर और इशांत के बाद विराट कोहली भी अरुण जेटली के समर्थन में उतरे

कांग्रेस सदस्य हालांकि जेटली के जवाब से संतुष्ट नहीं दिखे और उन्होंने जेटली से यह सवाल करते हुए नारेबाजी शुरू कर दी कि “क्या मैं मान लूं कि उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं हैं?” इस पूरे हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई। राज्यसभा की कार्यवाही दोबारा शुरू होने पर संसदीय मामलों के केंद्रीय मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि किशोर न्याय विधेयक पर चर्चा के लिए अनुपूरक कार्य सूची लाई जाएगी।

कुरियन द्वारा शून्य काल का आगाज कराने के लिए बढ़ते ही कांग्रेस सदस्यों ने फिर नारेबाजी शुरू कर दी। कांग्रेस सदस्यों ने सभापति की आसंदी के करीब जेटली के इस्तीफे की मांग की व नारे लिखी तख्तियां लेकर वहां एकतित्र हो गए। कुरियन ने सदन की कार्यवाही अपराह्न् 12 बजे तक के लिए स्थगित करने से पूर्व कहा, “वित्त मंत्री का कहना है कि वह मुद्दे पर चर्चा कराने के लिए तैयार हैं, इसके बावजूद नारेबाजी करना अनुचित व अस्वीकार्य है। यह सर्वाधिक दुर्भाग्यपूर्ण है।” सभापति हामिद अंसारी ने हंगामा जारी होने की वजह से बाद में सदन की कार्यवाही अपराह्न् 12.30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

इसके पहले केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पांच अन्य आम आदमी पार्टी (आप) नेताओं के खिलाफ मानहानि का दावा किया। जेटली ने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) से जुड़े मामले में अपने ऊपर लगे वित्तीय अनियमितताओं के झूठे आरापों को लेकर दिल्ली उच्च न्यायालय का रुख किया है।

अपनी याचिका में जेटली ने केजरीवाल के अलावा कुमार विश्वास, राघव चड्ढा, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक वाजपेयी को नामित किया है और इनसे 10 करोड़ रुपये की मानहानि हर्जाने का दावा किया है। 13 साल तक डीडीसी के अध्यक्ष रहे जेटली पर आम आदमी पार्टी ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है। केजरीवाल ने इस मामले की स्वतंत्र जांच पूरी होने तक जेटली के इस्तीफे या उन्हें पदमुक्त किए जाने की मांग की है।