Decision Review System can’t save Umpires. says Star Sports officials
Lasith Malinga @ screen grab

इंडियन टी20 लीग के 12वें सीजन में बैंगलुरू और मुंबई के मैच में एस. रवि का आखिरी गेंद को नो बॉल मिस करने का विवाद ठंडा भी नहीं पड़ा था कि पंजाब और दिल्ली के मैच में अंपायर अनिल चौधरी ने हर्डस विलजोएन की गेंद पर दिल्ली के बल्लेबाज काेलिन इंग्राम को एलबीडब्‍ल्‍यू करार दे दिया था जबकि उस समय गेंद लेग स्टम्प के बाहर जाती दिख रही थी।

पढ़ें:- दिल्‍ली फ्रेंचाइजी का सलाहकार बनने पर गांगुली को नोटिस, बढ़ सकती हैं मुश्किलें

इस पर रिव्यू लिया गया था और डीआरएस में अंपायर के फैसले को बनाए रखने को कहा गया था। नियमित अंतराल पर अंपायरों से हो रही गलतियां प्रसारणकर्ता स्टार स्पोर्टस को रास नहीं आ रही हैं। उनका मानना है कि लीग में जब देश के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी खेल रहे हैं और तकनीक भी उसी तरह की इस्तेमाल में हो रही है तो अंपायरों को अपने खेल का स्तर सुधारने की कोशिाश करनी चाहिए

पढ़ें:- मुंबई के खिलाफ मैच में लगातार चौथी जीत दर्ज करने उतरेगी धोनी की टीम

स्टार स्पोटर्स के एक अधिकारी ने कहा कि डीआरएस को बैकअप के तौर पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए ना कि प्राथमिक विकल्प के तौर पर इसका इस्तेमाल होना चाहिए।

अधिकारी ने कहा, “डीआरएस अंपायरों का बचाव नहीं करेगा और न ही उनके द्वारा की जा रही गलतियों को सुधारेगा। भारतीय अंपायरों को अपने अंदर सुधार करने और गलतियां कम करने की जरूरत है। गलतियां हालांकि इंसान से ही होती हैं, लेकिन सोमवार के मैच में जो गलती हुई वो चौधरी जैसे सीनियर अधिकारी से नहीं होनी चाहिए थी। हम चिंतित हैं क्योंकि जो सुविधाएं दी जा रही हैं वो विश्व स्तर की हैं और फिर इसके बाद जब इस तरह के गलत फैसले होते हैं तो यह हर चीज को बिगाड़ देता है।”