© AFP
© AFP

भारतीय कप्तान एमएस धोनी ने अपने गेंदबाजों से पहले 6 ओवरों में गेंदबाजी में सुधार करने को कहा है और कहा है कि वे इस परिस्थिति में अपने आपको जल्दी ढाल लें। ताकि वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टी20 में विपक्षी टीम को माकूल जवाब दिया जा सके। शनिवार को खेले गए टी20 मुकाबले में वेस्टइंडीज ने भारत के खिलाफ 245 रन बना डाले थे जो टी20 क्रिकेट में तीसरा सबसे बड़ा स्कोर है। लेकिन इस लक्ष्य का पीछा भारतीय टीम ने बेहतरीन अंदाज में किया लेकिन एक रन से उन्हें हार का सामना करना पड़ा।

वेस्टइंडीज को उनके दोनों सलामी बल्लेबाजों जॉनसन चार्ल्स और इविन लईस ने तेजतर्रार शुरुआत दी थी और 9.3 ओवरों में 126 रन जोड़े। धोनी ने मैच के बाद कहा. “लड़कों ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया। जिस तरह की गेंदबाजी हमने पहले 6 ओवरों में की अगर उसे हम सुधार पाएं तो बढ़िया होगा, बल्कि वे पहले 12 ओवर थे जिनमें हमने जमकर रन लुटाए।

धोनी का मानना है कि गेंदबाजों का इस परिस्थिति में जल्दी ढलना जरूरी है ताकि वह अपने गेम प्लान को व्यवस्थित कर सकें। क्योंकि ये साफ हो चुका है कि ये पिच वेस्टइंडीज के हार्डहिटर खिलाड़ियों के लिए मददगार साबित हो रही है।

दूसरे मैच में वेस्टइंडीज को पटखनी देते हुए टीम इंडिया सीरीज में वापसी करना चाहेगी। एमएस धोनी अजिंक्य रहाणे की जगह शिखर धवन को टीम में लाने की सोच सकते हैं। इससे शीर्ष क्रम में एक और तेजी से रन बनाने वाला बल्लेबाज जुड़ जाएगा। पहले मैच में इविन लुईस ने स्टुअर्च बिन्नी के ओवर में 32 रन बटोरे थे। जिसके बाद उन्हें गेंदबाजी का मौका नहीं दिया गया। उन्हें बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला। इस तरह अगर उन्हें पहले मैच के बाद बाहर कर दिया जाता है तो यह उनके साथ ज्यादती होगी। जाहिर है कि इस मैच को ज्यादातर गेंदबाज भूलना चाहेंगे।