Diana Edulji recommends suspending Pandya and Rahul till investigation is Pending
KL Rahul, Hardik Pandya (Twitter)

प्रशासकों की समिति (सीओए) की सदस्य डायना इडुल्जी ने भारतीय खिलाड़ियों हार्दिक पंड्या और केएल राहुल को आपत्तिजनक टिप्पणी के विवाद में ‘आगे की कार्रवाई होने तक निलंबित’ करने की सिफारिश की है। दरअसल बीसीसीआई की लीगल टीम ने महिलाओं पर इनकी विवादास्पद टिप्पणी को आचार संहिता का उल्लंघन घोषित करने से इनकार कर दिया है।

इडुल्जी ने शुरुआत में इन दोनों को दो मैचों के लिए निलंबित करने का सुझाव दिया था लेकिन बाद में इस मामले को विधि विभाग के पास भेज दिया जबकि सीओए प्रमुख विनोद राय उनसे सहमत हो गए थे और निलंबन की सिफारिश कर दी थी।

ये भी पढ़ें: ‘हार्दिक पांड्या के बयान का समर्थन नहीं करती भारतीय क्रिकेट टीम’

कानूनी टीम से राय लेने के बाद इडुल्जी ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा, ‘‘ये जरूरी है कि दुर्व्यवहार पर कार्रवाई का फैसला लिए जाने तक दोनों खिलाड़ियों को निलंबित रखा जाए जैसा कि (बीसीसीआई) सीईओ (राहुल जौहरी) के मामले में किया गया था जब यौन उत्पीड़न के मामले में उन्हें छुट्टी पर भेजा गया था।’’

बोर्ड की विधि कंपनी सिरिल अमरचंद मंगलदास की सिफारिशों के जवाब में इडुल्जी ने लिखा, ‘‘कानूनी राय के आधार पर और इस मुद्दे से निपटने के लिए अंतिम प्रक्रिया तय होने तक, सिफारिश की जाती है कि संभावित खिलाड़ियों और टीम को तुरंत ये सूचना भेजी जाए।’’

ये भी पढ़ें: हार्दिक पांड्या को लेकर परेशान नहीं हैं कोहली, रविंद्र जडेजा होंगे विकल्प

लीगल फर्म ने स्पष्ट किया है कि पांड्या की अनुचित टिप्पणियां आचार संहिता के दायरे में नहीं आती। विधिक राय की प्रति पीटीआई के पास है जिसके अनुसार, ‘‘हमारा मानना है कि मौजूदा मामला आचार संहिता के उल्लंघन के दायरे में नहीं आता और मौजूदा हालात में आचार संहिता की प्रक्रिया को लागू नहीं किया जा सकता।’’

बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इडुल्जी के नजरिए का समर्थन करते हुए कहा कि जांच लंबित रहने तक निलंबन होना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘ये आचार संहिता का मामला नहीं बल्कि संस्थान की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाना है। जैसे कि आईसीसी ने गेंद से छेड़छाड़ के आरोपों में अपनी आचार संहिता के तहत स्टीवन स्मिथ पर अधिकतम एक मैच का बैन लगाया था।’’

अधिकारी ने कहा, ‘‘लेकिन खेल की प्रतिष्ठ को नुकसान पहुंचाने के लिए क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें एक साल के लिए प्रतिबंधित किया। जब आप उनकी मूर्खतापूर्ण टिप्पणी को देखते हैं तो बड़ी तस्वीर देखिए।’’