पुराने नस्लवादी ट्वीट के कारण लगे सस्पेंशन के बाद वापसी करके भारत के खिलाफ पांच विकेट लेने वाले तेज गेंदबाज ओली रॉबिनसन (Ollie Robinson) ने इसे अपने जीवन का सबसे कठिन दौर बताते हुए कहा कि उन्हें शक था कि क्या वो कभी इंग्लैंड के लिए दोबारा खेल सकेंगे।

ओली के एक दशक पुराने नस्लवादी ट्वीट के कारण उन पर आठ मैचों का बैन लगा था। इनमें से तीन मैचों से वो बाहर रह चुके हैं लेकिन उनकी माफी के बाद टीम में उनकी वापसी हुई है।

उन्होंने तीसरे दिन के खेल के बाद कहा,‘‘एक समय था जब मैं अपने वकीलों से बात कर रहा था और हमें लग रहा था कि मैं इंग्लैंड के लिए फिर नहीं खेल सकूंगा। कुछ साल में मैं 30 साल का हो जाऊंगा और मेरी जगह कोई और ले लेगा । मुझे अपने करियर को लेकर संदेह हुआ लेकिन खुशी है कि आज सब कुछ अच्छा रहा।’’

उस दौर के बारे में उन्होंने कहा ,‘‘वो क्रिकेट में मेरे सबसे कठिन कुछ सप्ताह थे। शायद मेरी जिंदगी में। इसका मुझ पर ही नहीं बल्कि परिवार पर भी असर पड़ा। मैं उस घटना से काफी परिपक्व हो गया हूं। मैने बहुत कुछ सीखा है। मैं एक पिता भी हूं और अपनी ओर से सर्वश्रेष्ठ पेश आने की कोशिश करता हूं।’’