सुरेश रैना © Getty Images
सुरेश रैना © Getty Images

भारतीय टीम से बाहर चल रहे सुरेश रैना ने अपने सपने को लेकर बड़ा खुलासा किया है। विजडन इंडिया के साथ बातचीत में रैना ने कहा, ”मैं इंग्लैंड में 2019 का विश्व कप फाइनल खेल रहा हूं। फाइनल में भारत के सामने ऑस्ट्रेलिया या फिर पाकिस्तान की टीम है। और मैंने चौका लगाकर टीम को जीत दिला दी। हर तरफ भारतीय तिरंगा लहरा रहा है। हरकोई मेरा नाम पुकार रहा है। यही मेरा सपना है, मैं ये चाहता हूं।” रैना ने ये भी कहा कि वो चाहते हैं कि उस दिन स्टेडियम में प्रियंका और उनकी बेटी ग्रेसिया भी मौजूद रहें। कोच मिकी आर्थर के खिलाफ बयानबाजी पड़ी उमर अकमल को भारी, पीसीबी ने दिया नोटिस

रैना काफी लंबे समय से टीम से बाहर चल रहे हैं औ इस पर रैना ने कहा, ”मुझे पैसे और नाम से कोई मतलब नहीं है। मैंने ये सब पहले ही कमा लिया है लेकिन मेरा सिर्फ एक ही सपना है कि मैं फिर से भारत के लिए खेलूं। मैं फिर से भारतीय टीम में वापसी करना चाहता हूं।” रैना हाल ही में यो-यो प्रशिक्षण में फेल हो गए थे और इसी कारण उन्हें श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में टीम में नहीं चुना गया। रैना ने अपनी फिटनेस पर कहा, ”मुझे पता है कि हर कोई टेस्ट को पास करने की बात करता है लेकिन मैं हमेशा अच्छा खेलने पर ध्यान देता हूं। मैं हमेशा अपने खेल का लुत्फ उठाता हूं। मैं बचपन से ऐसा कर रहा हूं लेकिन मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी भारत के लिए खेलना है।”

आपको बता दें कि रैना लगभग 2 साल से वनडे टीम से बाहर चल रहे हैं। रैना ने अपना आखिरी वनडे अक्टूबर 2015 को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला था। इसके बाद उन्होंने 1 फरवरी 2017 को न्यूजीलैंड के खिलाफ आखिरी टी20I मैच खेला था। रैना ने उस मुकाबले में 45 गेंदों में 63 रनों की पारी खेली थी और भारत ने मुकाबले को जीत लिया था। आपको बता दें कि माना जा रहा था कि श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में रैना की वापसी हो जाएगी लेकिन वो यो-यो टेस्ट में फेल हो गए और उन्हें टीम में नहीं चुना गया।