इंग्लैंड (England) के खिलाफ तीसरे वनडे मैच में 73 रन पर 5 विकेट गिरने के बाद क्रीज पर उतरे ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) ने 108 रनों की पारी खेलकर ऑस्ट्रेलिया को निर्णायक मुकाबले में 3 विकेट से जीत दिलाई। मैक्सवेल ने विकेटकीपर बल्लेबाज एलेक्स कैरी (Alex Carey) के साथ मिलकर 212 रनों की मैचविनिंग साझेदारी भी बनाई।

मैच के बाद अपनी पारी के बारे में मैक्सवेल ने कहा, “खोने के लिए ज्यादा कुछ नहीं था इसलिए मैंने सोचा कि उनपर थोड़ा दबाव डालूं और शॉर्ट गेंद का पूरा फायदा उठाऊं और अपने बैट स्विंग से खेलूं। पारी की शुरुआत में मैं कुछ अच्छी बाउंड्री हासिल कर सका और फिर एलेक्स के साथ साझेदारी बनी। और मुझे पता था कि एक बार मैं आगे खेल गया तो वो मेरे खिलाफ अलग तरह से गेंदबाजी करेंगे और मैं कुछ खराब गेंदो का फायदा उठा पाउं लेकिन सबकुछ योजना के हिसाब से ही हुआ। जिस तरह से हमारी साझेदारी बनी वो कमाल था और मैं नतीजे से बेहद खुश हूं।”

मैक्सवेल ने कहा, “मैं सोच रहा था कि हमारे पास खोने के लिए कुछ नहीं है इसलिए मेरे गेंदबाजी के खिलाफ जाकर उन पर दबाव डालने की आजादी थी। मेरे हिसाब से 73/5 पर आने का मतलब है आर या पार। अगर अगले 5-10 ओवर में हम एक और विकेट खो देते तो गेंदबाजों से हमारा काम खत्म करने की उम्मीद करना गलत होता।”

उन्होंने कहा, “इसलिए एक बार जब हमने साझेदारी बनाने की शुरुआत की और थोड़ा खतरा उठाया और बच गए, तो हम वहां से मूमेंटम आगे ले जाने में सफल हुए। अपनी तकनीक और दूसरे छोर पर अपने साथी पर भरोसे के दम पर उस जगह तक पहुंचना जहां से स्टार्की और कमिंस हमें जीत की रेखा के पार ले गए बेहद शानदार था।”

कैरी के साथ अपनी साझेदारी के बारे में मैक्सवेल ने कहा, “मैंने इस साझेदारी का आनंद लिया, उसे पहला वनडे शतक लगाते देखना अच्छा था, उसने बहुत मेहनत की थी। वो अच्छे लड़कों में से हैं, मैं उसे हर रोज देखता हूं, वो मुझे हंसाता है। दूसरे छोर से उसे मेहनत का ईनाम मिलते देखना बेहद खास था और नंबर-1 टीम को उसके घर पर हराना भी शानदार रहा।”

गौरतलब है कि इस सीरीज के साथ साल 2015 के बाद पहली बार किसी टीम ने इंग्लैंड को उसके घर पर वनडे सीरीज में हराया है।