पाकिस्तान क्रिकेट टीम के प्रमुख कोच मिसबाह उल हक (Misbah Ul Haq) को विश्वास है कि इंग्लैंड के खिलाफ फाइनल मैच में उनके खिलाड़ियों की फिटनेस का स्तर ऊंचा रहेगा।

मैच से पहले पूर्व दिग्गज ने कहा, “पिछले साल सितंबर में मेरे टीम का मुख्य कोच बनने के बाद से ही फिटनेस हमारे लिए सबसे अहम मुद्दा रहा है और हमने पिछले दो टेस्ट मैचों में इसके नतीजे देखे हैं।”

42 साल के कोच ने कहा, “खिलाड़ियों ने अपने फिटनेस लेवल की जिम्मेदारी ली है और उन्हें इसका श्रेय मिलना चाहिए, खासकर कि कोविड-19 महामारी की वजह से घर पर तीन महीने गुजारने के बाद। उन्हें पता है कि फिटनेस उन्हें दबाव भरी स्थिति में प्रदर्शन करने में मदद करेगी।”

मैनचेस्टर में पहला टेस्ट हारने और साउथम्पटन में बारिश के चलते दूसरा टेस्ट ड्रॉ होने के बाद पाक टीम तीसरे मैच में हर हार में जीत के इरादे से उतरेगी।

दूसरे टेस्ट में भले ही पाक टीम जीत हासिल ना कर पाई हो लेकिन विकेटकीपर मोहम्मज रिजवान की शतकीय पारी टीम के लिए सकारात्मक रही। इस खिलाड़ी के बारे में मिसबाह ने कहा, “मोहम्मद रिजवान फिटनेस का सबसे अच्छा उदाहरण हैं, जिस तरह से उसने विकेटों के बीच दौड़ लगाई और निचले क्रम के साथ बल्लेबाजी की।”

कोच ने आगे कहा, “शान मसूद ने यही चीज पहले टेस्ट में दिखाई थी, लगभग आठ घंटे तक बल्लेबाजी करना और शादाब खान के साथ (विकेटों के बीच) भागना। जिस तरह से उन्होंने तेजी से रन लिए वो आपको अक्सर टेस्ट क्रिकेट में देखने को नहीं मिलता, खासकर कि पाकिस्तान टीम की ओर से।”