इंग्लैंड के तेज गेंदबाज क्रिस जॉर्डन (Chris Jordan) ने कहा है कि खिलाड़ियों के विभिन्न पृष्ठभूमि से आने के बावजूद टीम एक दूसरे का बहुत सम्मान करती है। उन्होंने कहा कि नस्लवाद के खिलाफ लड़ाई में सभी की भूमिका है। अमेरिका में पुलिस हिरासत में मारे गए अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद नस्लवाद के खिलाफ व्यापक विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

31 वर्षीय जॉर्डन ने स्काई स्पोर्ट्स से कहा कि तेज गेंदबाज जोफरा आर्चर, स्पिनर आदिल राशिद और आल राउंडर मोइन अली जैसे खिलाड़ियों का टीम में होना, खेलों में सामाजिक विविधता का उदाहरण है।

उन्होंने कहा, “टीम के दृष्टिकोण से देखें तो फिर यही है कि आप जो देखते हैं वही आपको मिलता है। यह बहुत ही विविध है और मोरी (कप्तान इयोन मोर्गन) के नेतृत्व में टीम वास्तव में बहुत अच्छी है। हम इस तथ्य को मानते हैं कि हर कोई अलग-अलग पृष्ठभूमि से आया है। हम इस बात को मानते हैं कि सभी के पास अलग-अलग मूल्य हैं और हम वास्तव में एकजुट होकर एक टीम के रूप में खेलते हैं।”

इंग्लैंड की 55 सदस्यीय अभ्यास दल का हिस्सा जॉर्डन ने कहा, “हम एक दूसरे का बहुत सम्मान करते हैं और यही चीज मैदान पर अच्छा करने के लिए प्रेरित करती है। सबसे महत्वपूर्ण यह है कि मैं मानता हूं कि यह वास्तविक है।”

इंग्लैंड को अगले महीने से वेस्टइंडीज के साथ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है। कोविड-19 के कारण मार्च के मध्य से क्रिकेट बंद है और इस महामारी के बीच यह पहली सीरीज होगी।