England Frustrated with ’50-50′ umpiring decisions, says Zak Crawley
(BCCI)

भारत और इंग्लैंड के बीच मोटेरा स्टेडियम में खेले जा रहे तीसरे टेस्ट मैच के पहले दिन इंग्लिश कप्तान जो रूट फील्ड अंपायर से बहस करते नजर आए थे। डे-नाइट टेस्ट में अंपायरिंग के स्तर से नाराज रूट और कोच क्रिस सिल्वरवुड ने दिन का खेल खत्म होने के बाद मैच रैफरी जवागल श्रीनाथ के सामने ये मामला पेश किया। पूर्व भारतीय दिग्गज श्रीनाथ ने कहा कि कप्तान मैदानी अंपायरों के सामने सही सवाल उठा रहे थे।

इंग्लैंड की टीम तीसरे अंपायर सी शमसुद्दीन के दो फैसलों से नाराज थी। भारत के सलामी बल्लेबाज शुबमन गिल दूसरे ओवर में बेन स्टोक्स की कैच अपील से बच गए। इसके बाद रोहित शर्मा को स्टंप आउट करने की बेन फोक्स की अपील खारिज कर दी गई।

जो रूट ने झटका पांच विकेट हॉल, 145 रन पर ढेर हुई टीम इंडिया

इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड के एक प्रवक्ता ने एक बयान में कहा,‘‘ इंग्लैंड के कप्तान और मुख्य कोच ने पहले दिन के खेल के बाद मैच रैफरी से बात की। कप्तान और मुख्य कोच ने अंपायरों की चुनौतियों को स्वीकार करते हुए कहा कि फैसलों में निरंतरता होनी चाहिये । मैच रैफरी ने कहा कि कप्तान अंपायरों से सही सवाल कर रहे थे।’’

गिल के मामले में कई तरह से फुटेज देखने के बाद उन्हें नाबाद करार दिया गया जबकि रोहित को तुरंत ही नॉट आउट करार दे दिया गया।

इंग्लैंड के सलामी बल्लेबाज जैक क्रॉली ने पहले दिन के खेल के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में भी कहा, ‘‘जब हम बल्लेबांजी कर रहे थे तब जैक (लीच) के मामले में उन्होंने पांच या छह एंगल से फुटेज देखी लेकिन जब हम फील्डिंग कर रहे थे तो एक ही एंगल से देखा। मैं नहीं कह सकता कि वे आउट थे या नहीं लेकिन चेकिंग और बेहतर हो सकती थी।’’