पूर्व इंग्लिड कप्तान नासिर हुसैन (Nasser Hussain) का मानना है कि इंग्लैंड टीम के भारत के खिलाफ 1-3 से मिली हार की जिम्मेदारी उठानी होगी। पूर्व क्रिकेटर ने माना कि भारतीय टीम ने इंग्लैंड को बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों विभाग में मात दी।

स्काई स्पोर्ट्स के अपने कॉलम में हुसैन ने लिखा, “इंग्लैंड कोई बहाना नहीं बना सकता। उन्होंने चार अलग पिचों पर खेला, उन्होंने चार में तीन बार टॉस जीता, उन्होंने स्थिति को सही से नहीं पढ़ा, उन्होंने अपनी टीम को रोटेट किया और पहले मैच के बाद वो 300 से ज्यादा रन से हारे, 10 विकेट से हारे और अब एक पारी और 20 रन से हारे। भारत ने उन्हें पूरी तरह पछाड़ा, बल्लेबाजी में पछाड़ा और स्पिन गेंदबाजी में भी, उनके स्पिनर अलग ही लीग के हैं।”

इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज में भारतीय टीम के स्पिन गेंदबाजों अक्षर पटेल (Axar Patel) और रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) ने मिलकर कुल 59 विकेट लिए। हुसैन ने कहा कि इंग्लैंड के बल्लेबाजों के पास अक्षर-अश्विन के सवालों का कोई जवाब नहीं था।

उन्होंने लिखा, “मैं ये कहना चाहता हूं कि सीरीज के आखिरी में हम अपने खिलाड़ियों को कई बहाने देंगे- ‘ये काउंटी क्रिकेट की वजह से हुआ’, ‘ये रोटेशन की वजह से हुआ’, ‘ये पिच की वजह से हुआ’, ‘वो भारत में खेल रहे थे’- खिलाड़ियों को जिम्मेदारी लेनी होगी। वो मैच जीतते या हारते हैं।”

हुसैन ने माना कि कप्तान जो रूट और विकेटकीपर बेन फोक्स के अलावा सभी खिलाड़ी इस सीरीज में संघर्ष करते नजर आए। उन्होंने कहा, “आप ये नहीं कहेंगे कि बाकी खिलाड़ी बाएं हाथ की स्पिन के खिलाफ सहज दिखे, चाहे वो लसिथ इंबुलदानिया हों या फिर अक्षर पटेल। यहां पर वहीं हुआ जो अक्सर विदेशी दौरों पर दिखता है, जब पिच उतनी खराब होती हैं जितनी पिछले दो मैचों की थी, तो आप बल्लेबाजी की लय खो देते हैं।”

उन्होंने आगे लिखा, “अगर आप पुजारा, कोहली, रहाणे को देखें, तो भारतीय बल्लेबाजों ने भी लय खो दी है और एक बल्लेबाज के लिए ये बहुत मुश्किल है। अगर रूट और स्टोक्स को अच्छी शुरुआत नहीं मिली होती तो आप कहते है पहले दिन से ही हमारा बल्लेबाजी क्रम संघर्ष कर रहा था।”