England vs West Indies 2nd Test:Joe Root explains decision to leave out James Anderson and Stuart Broad for second Test
James Anderson @ Getty (file image)

इंग्लैंड के सबसे सफल टेस्ट तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन विंडीज के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में कुछ खास कमाल नहीं कर पाए। साउथैम्पटन में खेले गए सीरीज के पहले टेस्ट मैच में इंग्लैंड को 4 विकेट से हार झेलने पर मजबूर होना पड़ा। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने बचाव करते हुए कहा है कि जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड में अब भी काफी काबिलियत है, हालांकि उन्होंने संकेत दिए कि जोड़ी के रूप में दोनों को उतारना शायद संभव नहीं हो।

वेस्टइंडीज के खिलाफ श्रृंखला के शुरुआती मैच में इंग्लैंड को चार विकेट से मिली हार के बाद एंडरसन को दूसरे टेस्ट के लिए आराम दिया गया।

ENG vs WI, 2nd Test: शतक के करीब सिबली, स्‍टोक्‍स के साथ मिलकर संभाली इंग्‍लैंड की पारी

वहीं बॉड को 2012 में वेस्टइंडीज के खिलाफ आराम दिए जाने के बाद पहली बार घरेलू टेस्ट से बाहर रखा गया। उनके ओल्ड ट्रैफर्ड में दूसरे टेस्ट में एंडरसन की जगह उतारने की उम्मीद है। रूट ने कहा, ‘स्टुअर्ट और जिमी अपने करियर को ज्यादा से ज्यादा बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं जिसके लिये सबसे अहम है कि वे ज्यादा से ज्यादा समय तक खेलते रहें।’

रूट ने संकेत दिए कि उनके कार्यभार को कम करने के लिए भविष्य में दोनों तेज गेंदबाजों को रोटेट किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘पिछले कुछ वर्षों में जो कुछ हो रहा है, अगर हमें इसके लिए इससे थोड़ा अलग करना होगा तो हमें इसके बारे में सोचना होगा और हम उन्हें प्रत्येक मैच में नहीं खिलायेंगे या फिर हर बार उन्हें एक साथ नहीं खिलाएंगे।’

इस दिग्गज ने जोफ्रा आर्चर के प्रोटोकॉल उल्लघंन को ‘मूर्खतापूर्ण’ करार दिया

उन्होंने कहा, ‘यह कहने का मतलब यह नहीं है कि ऐसा फिर दोबारा नहीं होगा। वे दो विश्व स्तरीय क्रिकेटर हैं और हम बहुत भाग्यशाली हैं कि हमारी टीम में ये शामिल हैं। हमें उनके इस्तेमाल में स्मार्ट होना होगा और हम अन्य खिलाड़ियों को भी खिलाने का मौका ढूंढ लेंगे।’

एंडरसन और ब्रॉड इंग्लैंड के लिए शीर्ष विकेट चटकाने वाले गेंदबाज रहे हैं जिन्होंने एक साथ मिलकर 116 टेस्ट खेले हैं और 883 विकेट चटकाए हैं।