एविन लुइस © Getty Images
एविन लुइस © Getty Images

इंग्लैंड के खिलाफ चौथे वनडे में वेस्टइंडीज के ओपनर एविन लुइस दोहरे शतक से चूक गए। एविन लुइस ने ओवल में खेले जा रहे मैच में शानदार 176 रनों की पारी खेली। एविन लुइस आसानी से दोहरा शतक लगा सकते थे लेकिन जेक बॉल की एक गेंद पर उन्हें दाएं पैर में चोट लग गई। जेक बॉल की गेंद पर लुइस ने शॉट खेला और गेंद उनके बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर उनके पैर में लग गई, जिसके बाद वो दर्द से करहाने लगे। लुइस को इतनी तेज दर्द हो रहा था कि उन्हें स्ट्रेचर से मैदान के बाहर ले जाना पड़ा। एविन लुइस को चोट 46.2 ओवर में लगी। मतलब जब वो रिटायर्ड हर्ट हुए तो वेस्टइंडीज की पारी की 22 गेंद और बची थी, लुइस जिस तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे थे तो उस लिहाज से वो दोहरे शतक तक आसानी से पहुंच सकते थे।

लुइस का तूफान एविन लुइस ने 130 गेंदों में ताबड़तोड़ 176 रन बनाए। जिसमें उनके बल्ले से 7 छक्के और 17 चौके निकले। एक समय वेस्टइंडीज ने सिर्फ 33 रन पर 3 विकेट गंवा दिये थे लेकिन लुइस ने अपनी ताबड़तड़ बल्लेबाजी से वेस्टइंडीज को खराब हालात से उबार लिया। लुइस ने शुरुआत तो धीमी की और 52 गेंद में अपना अर्धशतक पूरा किया। अर्धशतक लगाने के बाद उन्होंने अपना गीयर बदला और 94 गेंद में शतक ठोक दिया।

शतक जमाने के बाद लुइस और खतरनाक हो गए और उन्होंने ताबड़तोड़ छक्के जड़ने शुरू कर दिए। देखते ही देखते लुइस 120 गेंद में 150 रनों के स्कोर तक पहुंच गए। जब ऐसा लगने लगा कि लुइस आसानी से दोहरा शतक लगा लेंगे तो 176 रन के निजी स्कोर पर उन्हें चोट लग गई और उन्हें रिटायर्ड हर्ट होना पड़ा। वनडे क्रिकेट में रिटायर्ड हर्ट होने वाले बल्लेबाज का ये सबसे बड़ा स्कोर है। इससे पहले ये रिकॉर्ड सचिन के नाम था जो साल 2009 में 163 रन पर रिटायर्ड हर्ट हो गए थे। आपको बता दें इंग्लैंड की सरजमीं पर 10 साल बाद किसी वेस्टइंडीज के बल्लेबाज ने वनडे शतक लगाया है। साल 2007 में शिवनारायण चंद्रपॉल ने एजबेस्टन में इंग्लैंड के खिलाफ 116 रन की पारी खेली थी।