इंग्लैंड © Getty Images
इंग्लैंड © Getty Images

वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 मैच में 21 रनों से हारने के बाद इंग्लैंड के कप्तान इयान मॉर्गन ने बल्लेबाजों को जिम्मेदार ठहराया है। 177 के लक्ष्य का पीछा करते हुए इंग्लैंड टीम ने 68 रन पर चार बड़े विकेट खो दिए थे, जहां से टीम उबर ही नहीं पाई और मैच हार गई। मॉर्गन ने कहा कि गेंदबाजों ने वैसा प्रदर्शन नहीं किया जिसकी उम्मीद की गई थी। हालांकि खराब बल्लेबाजी को उन्होंने हार की बड़ी वजह बताया। मैच के बाद स्काई स्पोस्ट्स से बात करते हुए मॉर्गन ने हार के कारणों पर चर्चा की।

मॉर्गन ने कहा, “इविन लुईस और क्रिस गेल जैसी दुनिया की सबसे मजबूत टी20 सलामी जोड़ी के खिलाफ गेंदबाजी करना हमारे लिए अपनी काबिलियत को परखने का बढ़िया मौका था। हमने अच्छी गेंदबाजी नहीं की लेकिन हम इस वजह से मैच नहीं हारे। हम रनों का पीछा करने को लेकर काफी खुश थे। हमने सोचा था कि विकेट काफी अच्छी है। हम मैच तब हारे जब शुरुआत में ही हमारे तीन बड़े विकेट गिर गए और जब बियरस्टो और बटलर ने पारी को दोबारा बनाने की कोशिश की थी लेकिन तब भी विकेट लगातार गिरते रहे। हमें इस पक्ष में काम करने की जरूरत है।” मॉर्गन ने माना कि बतौर टीम इंग्लैंड का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। [ये भी पढ़ें: वेस्टइंडीज बनाम इंग्लैंड टी20 मैच का पूरा स्कोरकार्ड]

वहीं दूसरी ओर क्रेग ब्रेथवेट ने गेल-लुईस के प्रदर्शन की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, “किस्मत से मैं सीपीएल में उसी टीम के लिए खेला था जिसमें गेल और लुईस थे, इसलिए मुझे उनकी कई और बेहतरीन पारियां करीब से देखकर मजे लेने का मौका मिला है। इविन ने शुरुआत से ही शॉट लगाना शुरू कर दिया था। कई मौके तो ऐसे थे तब वह पारी को आगे से चला रहे थे और क्रिस को उनका साथ देना पड़ा। आप इस युवा खिलाड़ी की ताकत का अंदाजा नहीं लगा सकते। देखा जाए तो इविन को उतनी अच्छी शुरुआत नहीं मिली थी जितनी क्रिस को मिली लेकिन वह टिके रहे और बड़ी पारी खेली। जब आपकी सलामी जोड़ी 77 रन जोड़ दे तो आप मैच में आगे आ ही जाते हो।” [ये भी पढ़ें: वेस्टइंडीज टीम ने टी20 मैच में इंग्लैंड को 21 रनों से मात दी]

ब्रेथवेट ने आगे कहा, “पिच आसान नहीं थी, बल्कि काफी सॉफ्ट और स्लिपरी थी। अंपायरों ने मैच को रद्द करने के बारे सोच लिया था लेकिन हम टिके रहे और सभी खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन किया।” दोनों टीमों के बीच अभी पांच मैचों की वनडे सीरीज खेली जानी है। सीरीज का पहला मैच 19 सितंबर को मैनेचेस्टर में खेला जाएगा।