England’s rotation policy is preparing a great army of cricketers: Dale Steyn
डेल स्टेन © Getty Images

अपनी रोटेशन पॉलिसी की वजह से माइकल वॉन जैसे पूर्व क्रिकेटरों की ओर से आलोचना झेल रहे इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड को दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज तेज गेंदबाज डेल स्टेन का समर्थन मिला है। उन्होंने कहा कि ये ‘समझदारी भरा’ कदम धीरे धीरे ‘शानदार क्रिकेटरों की फौज’ तैयार कर रहा है।

ईसीबी की रोटेशन नीति की कड़ी आलोचना होती रही है जो कि उसने खिलाड़ियों का कार्यभार कम करने और उन्हें बायो सिक्योर बबल में रहते हुए मानसिक थकान से बचाने के लिए शुरू की है।

इस कदम से कई बड़े मैचों और सीरीज में उसके प्रमुख खिलाड़ी नहीं खेल पाते हैं लेकिन स्टेन को लगता है कि इससे इंग्लैंड की ‘बेंच स्ट्रेंथ’ मजबूत हो रही है जिससे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की भविष्य की प्रतियोगिताओं के लिए टीमों का चयन करते समय उसे मदद मिलेगी।

स्टेन ने ट्वीट किया, ‘‘इंग्लैंड की रोटेशन नीति धीरे धीरे शानदार क्रिकेटरों की फौज तैयार कर रही है। हम भले ही अभी इसकी आलोचना कर रहे हैं लेकिन अगले आठ सालों में आईसीसी के आठ टूर्नामेंट (असल में एक साल में एक, जैसा मुझे बताया गया है) होने हैं और उन्हें वास्तव में टीमों का चयन करते समय अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के अनुभवी क्रिकेटरों को ढूंढने के लिये संघर्ष नहीं करना पड़ेगा। टूर्नामेंटों को लेकर मैं पूरी तरह से गलत हो सकता हूं लेकिन मुझे यही बताया गया था। जो भी हो यह बेहद बुद्धिमत्तापूर्ण कदम है।’’

IPL 2021 से इंग्लैंड दौरे की तैयारियों पर नहीं पड़ेगा फर्क: चेतेश्वर पुजारा

इस रोटेशन नीति के कारण विकेटकीपर जोस बटलर भारत के खिलाफ पहले टेस्ट और ऑलराउंडर मोईन अली दूसरे टेस्ट के बाद स्वदेश लौट गए। जबकि बल्लेबाज जॉनी बेयरस्टॉ और तेज गेंदबाज मार्क वुड पहले दो मैचों से बाहर रहने के बाद सीरीज के बाकी मैचों के लिए टीम से जुड़ गये हैं। यही नहीं टीम मैनेजमेंट अनुभवी तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को भी बीच बीच में विश्राम देता रहा है।