Eoin Morgan doesn’t allow himself to think about being first England captain to win the World Cup
Eoin Morgan (Getty Images)

अपने 49 साल के वनडे क्रिकेट इतिहास में एक भी विश्व कप ट्रॉफी ना जीत पाने वाली इंग्लैंड टीम के लिए 2019 के विश्व कप टूर्नामेंट को सुनहरा मौका माना जा रहा है। कई क्रिकेट पंडित और पूर्व दिग्गड इंग्लैंड को 2019 आईसीसी विश्व कप का सबसे प्रबल दावेदार बता चुके हैं। हालांकि इयोन मोर्गन अब भी अपने दिमाग में इंग्लैंड को पहला विश्व कप जिताने वाला कप्तान बनने का ख्याल नहीं आने देते हैं।

डेली मेल को दिए बयान में मोर्गन ने कहा, “नहीं, मैं अपने आपको ये सोचना की इजाजत नहीं देता। खेल कभी भी क्रूर हो सकता है और अगर हमें इसका उदाहरण चाहिए तो 2016 के टी20 विश्व कप फाइनल को देख लें। बेन स्टोक्स का वो आखिर ओवर बताता है कि ये खेल कितना अप्रत्याशित हो सकता है और इसलिए ही हम इसे पसंद भी करते हैं। हर बार आपको लगता है कि आप अच्छे हैं, पर आप नहीं होते।”

ये भी पढ़ें: विश्व कप में जोफ्रा ऑर्चर के खेलने पर जल्द फैसला लेगा ईसीबी: इयोन मोर्गन

बता दें कि इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेले गए 2016 टी20 विश्व कप फाइनल के आखिरी ओवर में जब जीत के लिए 19 रनों की जरूरत थी, तो कार्लोस ब्रेथवेट ने स्टोक्स के खिलाफ चार लगातार छक्के जड़कर विंडीज टीम को खिताब जिताया था।”

भले ही क्रिकेट जगत इंग्लैंड को विश्व कप जीतने का फेवरेट बता रहा हो, मोर्गन मानते हैं कि उनकी टीम अंडरडॉग है। उन्होंने कहा, “केवल इसलिए कि हम नंबर एक टीम हैं, इससे कुछ नहीं बदलता। हम नंबर-2 टीम की तरह खेलते हैं, जैसे कि हम किसी का पीछा कर रहे हों। हम हमेशा ही पीछा करने की कोशिश करते हैं और अपने आपको बेहतर बनाने की कोशिश करते रहते हैं। आज हम जहां पहुंचे हैं, वहां तक आने के लिए हमने बहुत मेहनत की है।”

ये भी पढ़ें: क्रिस गेल की चुनौती पर आदिल राशिद का जवाब, ‘इंसान ही ही हैं, गलती कर आउट होंगे’

विश्व कप टूर्नामेंट शुरू होने में 100 दिन से भी कम का समय रह गया है लेकिन इंग्लैंड का विश्व कप स्क्वाड अभी पूरी तरह से निश्चित नहीं है। इस बारे में कप्तान ने कहा, “मुझे नहीं लगता है कि हम अभी ये कह सकते हैं कि ‘ये हमारा विश्व कप स्क्वाड है’, खासकर गेंदबाजों की वजह से क्योंकि उन्हें कभी भी इंजरी की शिकायत हो सकती है।”

मोर्गन ने आगे कहा, “जब आप इतनी दूर हों तो निश्चित होकर ये कहना कि ‘ये हमारी टीम है’ नुकसान कर सकता है। फिर अगर एक-दो खिलाड़ी ड्रॉप होंगे तो टीम का मूड बदल जाएगा। हमारे पास करीबन 17-18 खिलाड़ी हैं जो स्क्वाड में हो सकते हैं और 23 अप्रैल (इंग्लैंड का पहला विश्व कप मैच) से पहले हमे तीन या चार बड़े फैसले लेने हैं।”

ये भी पढ़ें: पहले 10 ओवर में विकेट ना गंवाएं बांग्लादेशी खिलाड़ी: तमीम इकबाल

हालांकि विश्व कप से पहले इंग्लैंड के सामने कैरेबियन चुनौती है, जिसे मोर्गन हल्के में बिल्कुल नहीं ले रहे हैं। उन्होंने कहा, “पहले विश्व कप मैच से पहले हमारे सामने करीब 11 मैच हैं और वो भी अहम हैं, खासकर कि वेस्टइंडीज के खिलाफ क्योंकि यहां के हालात काफी तेजी से बदलते हैं और हमें अपने कंफर्ट जोन से बाहर लाते हैं। हमें जितना हो सके उतना इस सीरीज से सीखना होगा ताकि टूर्नामेंट के सातवें, आठवें मैच तक, जब हम एकदम अलग परिस्थियों में खेल रहे होंगे तो हम अपने आपको उसके हिसाब से ढालने में कामयाब हो सकें।”