Faf Du Plessis admits home conditions has been tough for South African batsmen over the last few years
Faf du Plessis © Getty Images

पाकिस्तान के खिलाफ केपटाउन टेस्ट में दक्षिण अफ्रीकी कप्तान फाफ डु प्लेसिस के 103 रनों की शानदार पारी खेलकर मेजबान टीम की स्थिति मजबूत की। मैच के पहले दिन पाकिस्तान टीम 177 रन पर ऑलआउट हो गई थी। जिसके बाद विपक्षी टीम के कोच मिकी ऑर्थर ने दक्षिण अफ्रीका की पिचों पर सवाल उठाए। वहीं डु प्लेसिस ने भी माना कि दक्षिण अफ्रीका के हालात घरेलू टीम के बल्लेबाजों के लिए भी मुश्किल हैं।

ये भी पढ़ें: केपटाउन टेस्‍ट: फाफ डु प्‍लेसिस के 9वें टेस्‍ट शतक से दक्षिण अफ्रीका मजबूत

दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद डु प्लेसिस ने कहा, “मैं आपसे ये वादा कर सकता हूं कि हालात केवल बल्लबाजों के लिए ही नहीं बल्कि कप्तान के लिए भी मुश्किल हैं। मैं भी शतक लगाना चाहता हूं और 50 का औसत चाहता हूं लेकिन ड्रेसिंग रूम में इसे लेकर अच्छी मानसिकता है। हमने इस बारे में बात की है और ये ऐसी चीज है जिसे हमने स्वीकार कर लिया है। और मुझे लगता है आप हमारे सलामी बल्लेबाजों का उदाहरण देख सकते हैं। और हमें जो चीज अलग बनाती है वो ये कि हम इन हालातों के साथ खुश हैं। अगर इसका मतलब असफलता है, जब तक टीम जीत रही है, तो टीम इसके साथ रहेगी।”

ये भी पढ़ें: साथी गेंदबाजों के रवैये ने मुझे और तेज गेंदबाजी करने को प्रेरित किया: डेल स्टेन

हालांकि डु प्लेसिस ने माना कि नए बल्लबाजों के लिए थोड़ी मुश्किल जरूर है। उन्होंने कहा, “अपनी छाप छोड़ने को तैयार युवा खिलाड़ियों के लिए ऐसी विकेट पर खेलना मुश्किल है। और फिर आप विदेशी दौरों पर जाते हैं या उपमहाद्वीप में खेलते हैं, जहां गेंद पहले दिन से ही स्पिन होती है। लड़कों के लिए ये मुश्किल समय है लेकिन कप्तान के साथ वो भी केवल मैच जीतना चाहते हैं। वो खुश हैं, अगर हम जीत रहे हैं तो हर कोई टीम के साथ रहेगा।”