अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर कोरोनावायरस का गहरा प्रभाव पड़ा है। फिलहाल इस महामारी की वजह से क्रिकेट पर पूरी तरह से ब्रेक लगा हुआ और संभावना है कि खेल दोबारा शुरू होने पर इस वायरस की वजह से नियमों में कई बदलाव करने पड़ेंगे। आईसीसी की क्रिकेट समिति ने इस महामारी के बाद खेल शुरू होने पर गेंद चमकाने के लिए सलाइवा के इस्तेमाल को बंद करने की सिफारिश की भी की है।

दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज फाफ डु प्लेसिस का मानना है कि इस बदलाव का आदि होना बेहद मुश्किल है। डु प्लेसिस का कहना है कि वह हर गेंद से पहले फिल्डिंग के लिए तैयार होने के लिए अपने हाथ पर थूंकते हैं। ऐसा करने वाले सिर्फ डु प्लेसिस नहीं हैं। दुनिया का लगभग हर फील्डर ऐसा करता है ताकि गेंद उसके हाथों में आसानी से चिपक सके।

डु प्लेसिस ने स्टार स्पोटर्स के एक शो पर कहा, “मैं स्लिप पर जब खड़ा होता हूं तो कैच लेने के लिए तैयार होने से पहले मैं अपने हाथ पर थूंकता हूं। अगर आप रिकी पोंटिंग जैसे खिलाड़ी को देखेंगे तो वह हर गेंद से पहले अपने हाथ पर इसी तरह थूंकते थे।”