मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को भारत में फैन्‍स भगवान का दर्जा देते हैं. ऐसा होना लाजमी भी है क्‍योंकि वो सभी प्रारूपों में मिलाकर क्रिकेट में शतकों का शतक लगा चुके हैं. वो अपने शांत स्‍वभाव के लिए भी जाने जाते हैं. लेकिन भारतीय मूल के इंग्लिश स्पिनर मोंटी पनेसर (Monty Panesar) ने कहा कि मेरे लिए वो महज करियर की पहली टेस्‍ट विकेट ही हैं.

इंग्‍लैंड ने लिए 50 टेस्‍ट में 167 विकेट और 26 वनडे में 24 विकेट निकालने वाले मोंटी पनेसर (Monty Panesar) से एक इंटरव्‍यू के दौरान सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) से रिश्‍तों के सबंध में पूछा गया. इसपर उन्‍होंने कहा, “मुझे नहीं पता कि मैं सचिन तेंदुलकर का कितना अच्‍छा दोस्‍त हूं क्‍योंकि मेरे पास तो उनका फोन नंबर तक नहीं है. मैं उन्‍हें कॉल करके यह नहीं पूछ सकता हूं कि उनका हाल चाल कैसा है.”

“कुछ लोगों के लिए वो भगवान हैं लेकिन मेरे लिए वो पहली टेस्‍ट विकेट हैं. एक ऐसी चीज जो मेरे जीवन में काफी महत्‍व रखती है.”

मोंटी पनेसर (Monty Panesar) ने कहा, “सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) भारत में सुपर वीआईपी हैं. ऐसा नहीं है क्‍या ? उनके पास हमेशा लोगों के लिए समय होता है. ऐसा नहीं है क्‍या ? मेरे ख्‍याल से सचिन की यही खास बात है. वो हमेशा लोगों से बात करना पसंद करते हैं. सचिन से मिलना काफी अच्‍छा रहेगा.”

उन्‍होंने कहा, “शायद, मैं उन्‍हें यहां यूके से कॉल करूं और उनसे कहूं- सचिन पाजी आप कैसे हो ? शायद कोरोनावायरस के इस वक्‍त में उनसे जूम पर वीडियो कॉल करना अच्‍छा रहेगा लेकिन मेरे पास ऐसा कोई मौका नहीं है.”

मोंटी परेसर ने कहा, “अपने पहले विकेट के रूप में सचिन का विकेट लेना मेरे जीवन में काफी महत्‍व रखता है. वो एक सुपरस्‍टार हैं. मुझे भी नहीं पता कि मैं उनका विकेट लेने में कैसे सफल रहा. मैं ये कहूंगा कि सचिन (Sachin Tendulkar) के पास उस वक्‍त डीआरएस नहीं था. अन्‍यथा उसका नतीजा कुछ और ही होता. मेरे जीवन में वो काफी महत्‍व रखते हैं. अगर मैं उन्‍हें कॉल करके ये पूछ पाया कि कोरोनावायरस के इस दौरान में वो घर में कैसे समय बिता रहे हैं तो बड़ी बात होगी.”