देश में कोरोना वायरस (Coronavirus in India) की दूसरी लहर ने जब अपना प्रचंड रूप दिखाया तो उसने सभी को झकझोर कर रख दिया. लगातार मरीजों की बढ़ती संख्या से हालात इस कदर बेकाबू थे कि कई लोगों अस्पतालों में ऑक्सीजन और बेड की कमी के चलते दम तोड़ने लगे. इस महामारी से पूर्व भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) भी चिंतित थे और उन्होंने अपने फाउंडेशन यूवीकैन फाउंडेशन (YouWeCan Foundation) के जरिए जो बन पड़े वह मदद करने की ठानी.

इस कड़ी में युवराज ने तेलंगाना के निजामाबाद में स्थित सरकारी मेडिकल कॉलेज और जनरल अस्पताल में 120 क्रिटिकल केयर यूनिट (CCU) बेड स्थापित किए हैं. फाउंडेशन को इसके लिए एसेंचर से वित्तीय सहायता मिली. यूवीकैन फाउंडेशन ने अस्पताल को कई तरह के चिकित्सा उपकरण उपलब्ध कराए, जिसमें बीपैप मशीन, आईसीयू वेंटिलेटर, पेशेंट मॉनिटर, क्रैश कार्ट और ऑक्सीजन सिलेंडर शामिल हैं.

https://twitter.com/YUVSTRONG12/status/1420015191140409344?s=20

युवराज (Yuvraj Singh) ने एक बयान जारी करते हुए कहा, ‘हम सभी को कोविड-19 (Covid 19) की दूसरी लहर के दौरान काफी नुकसान झेलना पड़ा है. हमने अपने प्रियजनों को खोया, हमें ऑक्सीजन, आईसीयू बेड और अन्य महत्वपूर्ण सुविधाओं के लिए भी संघर्ष करना पड़ा.’

युवराज (Yuvraj Singh) ने आगे बयान में कहा, ‘इस तरह के अनिश्चित संकट और कई जिंदगी के खोने के साथ-साथ मुझे खुद को एक व्यक्तिगत नुकसान से गुजरना पड़ा जिसके बाद, मैने यह ठाना कि मुझे इस घातक वायरस के खिलाफ लड़ाई में हमारे डॉक्टर्स और फ्रंटलाइन वॉरियर्स का समर्थन करना चाहिए.’

दो बार के वर्ल्ड कप विजेता 39 वर्षीय युवी (Yuvraj Singh) ने आगे कहा, ‘हमारी पहल मिशन 1000 बेड के माध्यम से, हम लोग अपने देश की मौजूदा क्षमता को बढ़ाने के लिए देश भर के अस्पतालों में केविड-19 क्रिटिकल केयर सुविधाएं स्थापित कर रहे हैं.’ उन्होंंने ने बुधवार को तेलंगाना के गृह मंत्री महमूद अली, एसेंचर के प्रतिनिधी और अस्पताल के कुछ प्रतिनिधियों की मौजूदगी में इस सुविधा का उद्घाटन किया.