पहला एशेज 251 रन के बड़े अंतर से हारने के बाद इंग्लैंड टीम लॉर्ड्स में जीत की रेखा पार करने में नाकाम रही और ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज मार्नस लबुशाने को मैच ड्रॉ की तरफ ले जाने का मौका दिया। और अब मेजबान टीम तीसरे एशेज टेस्ट की पहली पारी में 67 रन के स्कोर पर ढेर हो गई। जो डेन्ली (12) को छोड़कर कोई भी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा नहीं छू पाया। इस निराशाजनक प्रदर्शन को देकर पूर्व क्रिकेटरों ने इंग्लिश बल्लेबाज कों फटकार लगाई।

पूर्व कप्तान रॉबर्ट डिलन विलिस ने इस प्रदर्शन को दयनीय बताया और कहा कि कप्तान जो रूट और ऑलराउंडर बेन स्टोक्स के अलावा वर्तमान टीम का कोई खिलाड़ी बल्लेबाजी करना नहीं जानता। स्काई स्पोर्ट्स को दिए बयान में विलिस ने कहा, “ये अपमानजनक था, बिल्कुल दयनीय। जो रूट और बेन स्टोक्स के अलावा, ये लोग बल्लेबाजी नहीं कर सकते। ये सीधी सी बात है, ये प्रदर्शन स्वीकार नहीं किया जा सकता। इंग्लैंड इस समय टेस्ट क्रिकेट नहीं खेल सकता है और एशेज जा चुकी है।”

पूर्व क्रिकेटर माइकल एथर्टन ने इंग्लिश खिलाड़ियों की खराब बल्लेबाजी के संभव कारणों पर बात की। उन्होंने कहा, “शायद ये डिफेंस में आत्मविश्वास की कमी हो, शायद खराब जजमेंट या फिर स्थिति के हिसाब से खुद को ना ढाल पाया या फिर हालात में ढलने की जिद, शायद यहां खेलने की समझ की कमी या फिर इन सभी चीजों का कॉम्बिनेशन लेकिन बात साफ है कि जब गेंद हरकत करती है तो इंग्लैंड का ये बल्लेबाजी क्रम हर बार लाइन पर आ जाता है।”

अंतरर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद आईपीएल में वापसी करने का तैयार हैं रायडू

उन्होंने आगे कहा, “ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों की उत्कृष्टता की केवल प्रशंसा की जा सकती है: वो तेज, आक्रामक, अथक थे। फिर भी, ये एक बेहद खराब बल्लेबाजी प्रदर्शन था। एक कहावत है कि वो उन लोगों की मदद करता है जो खुद की मदद करते हैं। ये पहली बार नहीं है जब इंग्लैंड के बल्लेबाजों ने टीम को निराश किया है। अपने घरेलू दर्शकों के सामने शून्य पर आउट होना और आंखों के सामने से एशेज का निकलते जाना, ये जो रूट के लिए खराब दिन था।”