Former Indian cricketer Yuvraj Singh is unhappy with the lack of consistent opportunities in Test cricket
युवराज सिंह (Twitter)

टीम इंडिया को टी20 और वनडे विश्व कप जिताने में अहम भूमिका निभाने वाले पूर्व दिग्गज युवराज सिंह को इस बात का मलाल है कि उन्हें टेस्ट क्रिकेट में लगातार मौका नहीं मिले।

पूर्व बल्लेबाज ने उन्हें नजरअंदाज करने और नियमित रूप से टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका नहीं देने के लिए अपने समय के टीम मैनेजमेंट पर की आलोचना की है।  युवराज सिंह ने एक क्रिकेट वेबसाइट द्वारा पोस्ट किए गए एक ट्वीट के जवाब में ये बात कही।

वेबसाइट ने अपने फालोअर्स से पूछा था कि वे उस खिलाड़ी का नाम बताएं, जो उनकी नजर में और अधिक टेस्ट मैच खेल सकता था। इसके जवाब में फालोअर्स ने युवराज का नाम लिया था। इस पर युवराज ने ट्वीट किया, “शायद अगले जन्म में! जब मैं 7 साल के लिए केवल 12वां खिलाड़ी ना हों।”

पूर्व इंग्लिश खिलाड़ी को यकीन, टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड को 5-0 से हराएगी टीम इंडिया

बाएं हाथ के बल्लेबाज और भारतीय क्रिकेट में क्रिकेट की गेंद के सबसे साफ हिटर में से युवराज एक ने नौ साल की अवधि में 40 टेस्ट खेले।

सीमित ओवरों के क्रिकेट में अपने कारनामों के लिए अधिक जाने जाने वाले, युवराज ने एक फॉर्मेट में 33.92 की औसत से 1900 टेस्ट रन बनाए। उन्होंने तीन शतक और 11 अर्धशतक बनाए।