पाकिस्तान (Pakistan) टीम के पूर्व कप्तान राशिद लतीफ (Rashid Latif) ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) पर बड़े आरोप लगाए हैं और कहा है कि बोर्ड के कुछ अधिकारी मैच फिक्सिंग मामलों में शामिल हैं। पूर्व क्रिकेटर के मुताबिक खिलाड़ी फिक्सिंग के मामलों में केवल मोहरे होते  हैं। जिनका बचाव बोर्ड ही करता है।

गुरुवार को एक यू-ट्यूब वीडियो में लतीफ ने कहा, “क्रिकेट बोर्ड ने हमेशा से ही मैच फिक्सिंग से जुड़े खिलाड़ियों का समर्थन किया है। हम हमेशा खिलाड़ियों को दोष देते हैं। हां, वो फिक्सिंग में शामिल हैं लेकिन क्रिकेट प्रशासकों को भी दोषी ठहराया जाना चाहिए।”

मैच फिक्सिंग मामले में आरोपी साबित हुए शरजील खान की वापसी के बाद इस मुद्दे पर काफी चर्चा हो रही है। मोहम्मद हफीज, शाहिद आफरीदी से लेकर शोएब अख्तर तक सभी सीनियर खिलाड़ियों ने बोर्ड ने फिक्सिंग को लेकर कड़े नियम बनाने और खिलाड़ियों को जरूरी जानकारी देने के लिए कार्यक्रमों के इंतजाम की बात कही है।

हालांकि लतीफ ने कहा कि आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट खिलाड़ियों को कुछ लोगों से सतर्क रहने को कहती है लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठाती। उन्होंने कहा, “आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट खिलाड़ियों को कुछ निश्चित लोगों से दूर रहने की सलाह देती है लेकिन खिलाड़ी उन्हीं लोगों की टीमों के लिए फ्रेंचाइजी क्रिकेट खेलते हैं, जिनसे आईसीसी दूर रहने की सलाह देती है। ये एक बड़ी समस्या है।”

लतीफ ने आगे कहा, “मैं फिक्सिंग के लिए खिलाड़ी को ही पूरी तरह दोषी नहीं ठहराउंगा। खिलाड़ी केवल प्यादे हैं, बोर्ड के शीर्ष सदस्य उनका इस्तेमाल करते हैं। फिक्सिंग में बोर्ड की बड़ी भूमिका है।”