Former players criticize ICC’s ‘ridiculous’ rules of counting the boundaries
न्यूजीलैंड (IANS)

पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर, युवराज सिंह समेत पूर्व क्रिकेटरों ने चौके-छक्के गिनकर विश्व कप विजेता का निर्धारण करने वाले आईसीसी के ‘हास्यास्पद’ नियम की जमकर आलोचना की। जिस नियम की वजह से लॉर्ड्स पर फाइनल में इंग्लैंड ने न्यूजीलैंड को हराया। इंग्लैंड ने मैच में 22 चौके और दो छक्के लगाए जबकि न्यूजीलैंड ने 16 चौके लगाए।

गंभीर ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘समझ में नहीं आता कि विश्व कप फाइनल जैसे मैच के विजेता का निर्धारण चौकों-छक्कों के आधार पर कैसे हो सकता है। हास्यास्पद नियम। ये टाई होना चाहिये था। मैं न्यूजीलैंड और इंग्लैंड दोनों को बधाई देता हूं।’’

विश्व कप 2011 के प्लेयर आफ द टूर्नामेंट रहे युवराज सिंह ने लिखा, ‘‘मैं नियम से सहमत नहीं हूं लेकिन नियम तो नियम है। इंग्लैंड को आखिरकार विश्व कप जीतने पर बधाई। मैं न्यूजीलैंड के लिए दुखी हूं जिसने अंत तक जुझारूपन नहीं छोड़ा। शानदार फाइनल।’’

‘बेन स्टोक्स की सलाह ने सुपर ओवर के दौरान शांत रहने में मदद की’

न्यूजीलैंड के पूर्व ऑलराउंडर स्कॉट स्टायिरस ने लिखा, ‘‘शानदार काम आईसीसी। आप एक लतीफा हो।’’

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज डीन जोंस ने लिखा, ‘‘डकवर्थ लुईस प्रणाली रन और विकेट पर निर्भर है। इसके बावजूद फाइनल में सिर्फ चौकों-छक्कों को आधार माना गया। मेरी राय में ये गलत है।’’

न्यूजीलैंड के पूर्व ऑलराउंडर डियोन नैश ने कहा, ‘‘मुझे लग रहा है कि हमारे साथ छल हुआ है। ये बकवास है। सिक्के की उछाल की तरह फैसला नहीं हो सकता। नियम हालांकि पहले से बने हुए हैं तो शिकायत का कोई फायदा नहीं।’’