गौतम गंभीर  © Getty
गौतम गंभीर © Getty

टीम इंडिया से बाहर चल रहे गौतम गंभीर अब एमएस धोनी के समर्थन में खुलकर सामने आए हैं। उन्होंने धोनी की आलोचना करने वाले लोगों को करारा जवाब दिया है। पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी के करियर को लेकर तब सवाल उठने शुरू हो गए थे जब वह न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी20 में धीमी स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते नजर आए थे और टीम इंडिया को मैच गंवाना पड़ा था। कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने तक कहा था कि धोनी को सीमित ओवर क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए। बहरहाल, गंभीर का मानना है कि श्रेय उसे ही दिया जाना चाहिए जहां ये जरूरी है और उनके मुताबिक धोनी श्रेय पाने के हकदार हैं। क्योंकि धोनी ने खराब समय में टीम इंडिया को संवारने में अहम भूमिका निभाई है।

गौतम गंभीर ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने टीम इंडिया को संवारा है उसके लिए उन्हें श्रेय दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “आपको उन्हें श्रेय देना चाहिए क्योंकि ये जरूरी है। कई मर्तबा तो लोगों ने उनकी कप्तानी पर भी सवाल उठाए। जो उन्होंने भारतीय क्रिकेट के लिए किया वह बहुत से लोगों ने नहीं किया, खासतौर पर उन्होंने जिस तरह से टीम इंडिया को खराब परिस्थितियों में संवारा है वह गजब है। जब टीम बढ़िया प्रदर्शन कर रही हो तब उसे संभालना आसान है। लेकिन जिस तरह से उन्होंने खराब समय में टीम इंडिया को संभाला वो उल्लेखनीय है। खासतौर पर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में साल 2011-12 में जहां हमें 4-0 से हार झेलनी पड़ी थी, इस दौरान वह पूरी तरह से शांत रहे थे और ज्यादा भावुक नहीं हुए थे। इसके लिए धोनी क बहुत श्रेय जाना चाहिए।”

गंभीर कोलकाला नाइट राइडर्स के टीवी शो के दौरान बोलते नजर आए। उन्होंने ये भी कहा कि जब वह धोनी की कप्तानी में खेल रहे थे तब उन्होंने खासा आनंद उठाया और उन्होंने टीम को एक ईकाई में अच्छी तरह से पिरोया। गंभीर ने कहा, “मैं सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़, वीरेंद्र सहवाग और एमएस धोनी की कप्तानी में खेला हूं। मुझे लगता है कि मैंने एमएस के कप्तान रहते हुए खासा आनंद उठाया। हमने बहुत मजे किए। हम एक ही उम्र के भी थे। वह बहुत जिंदादिल हैं। वह चीजों को आसान रखते हैं जो बहुत अच्छा है।”

कोच रवि शास्त्री का बड़ा बयान, एम एस धोनी के करियर का अंत चाहते हैं कुछ लोग
कोच रवि शास्त्री का बड़ा बयान, एम एस धोनी के करियर का अंत चाहते हैं कुछ लोग

दूसरे टी20 में न्यूजीलैंड के द्वारा दिए गए 197 रनों के लक्ष्य का पीछा करने के दौरान धोनी ने 37 गेंदों में 49 रनों की पारी खेली थी। इस दौरान उन्होंने काफी डॉट गेंदें खेली थीं। साथ ही वह विराट कोहली को स्ट्राइक देने में भी जूझते नजर आ रहे थे, जो बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे थे। इसी वजह से दबाव बढ़ गया और टीम इंडिया लक्ष्य का पीछा करने के दौरान भटक गई। इसके बाद कुछ लोगों ने धोनी का समर्थन किया और कुछ लोगों ने उनपर टी20 क्रिकेट में करियर को खींचने का आरोप मढ़ दिया। लेकिन हाल ही में कप्तान कोहली ने उन सभी कयासों पर बकवास करार दिया और कहा कि धोनी अभी भी टीम इंडिया के बेहतरीन बल्लेबाज हैं और हार के लिए किसी एक खिलाड़ी को जिम्मेदार ठहराना ठीक नहीं है।