आईपीएल सीजन 6 के दौरान मैदान पर भिड़ गए थे गंभीर और कोहली। © AFP
आईपीएल सीजन 6 के दौरान मैदान पर भिड़ गए थे गंभीर और कोहली। © AFP

गौतम गंभीर ने हाल ही में न्यूजीलैड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में एक बार फिर से टीम इंडिया में वापसी की है। गंभीर को इसके लिए तीन साल का लंबा इंतजार करना पड़ा पर आखिर में जब उन्होंने मैदान पर वापसी की तो इंदौर टेस्ट की दूसरी पारी में शानदार अर्धशतक जड़ा। गंभीर ने पहली बार कोहली की कप्तानी में टेस्ट मैच खेला है। 2013 आईपीएल के दौरान जब गंभीर कोलकाता के कप्तान थे और विराट बैंगलूरू की तरफ से खेलते थे तब एक मैच के दौरान दोनो के बीच झड़प हो गई थी। इस बारें में अब गंभीर ने अपनी चुप्पी तोड़ी है और कहा है कि वह दोनों ही खेल को लेकर हमेशा उत्साहित रहते है, ये टीम के लिए होता है इसमें कुछ भी निजी नहीं होता। ये भी पढ़ें बल्ले की जगह बन्दूक लिए नजर आए शाहिद अफरीदी

गंभीर ने कहा “जब आप किसी टीम के विरूद्ध खेल रहे होते हैं आप जीतने के लिए खेलते हो और इसके लिए आपको आक्रामक होना पड़ता है। एक कप्तान के बतौर आपकी टीम वैसा ही खेलती है जैसा आप खेलते हो। हम दोनों ही आक्रामक और उत्साहित रहते है और हमेशा अपनी टीम के लिए अच्छा खेलना चाहते हैं। अगर आप के विचारों में भेद है तब भी इसमें कुछ गलत नहीं है। हम दोनों का मकसद अपने देश का मान रखना और हर मैच को जीतने की पूरी कोशिश करना है। इसमें कुछ भी व्यक्तिगत नहीं होता, सभी पेशेवर खिलाड़ी ऐसा ही करते हैं। हम मैदान पर और मैदान के बाहर भी अच्छे दोस्त है। आईपीएल के नौंवे सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ एक मैच में जीत के बाद जश्न मनाने के दौरान कुर्सी पटकने पर भी गंभीर को मैच फीस का 15 प्रतिशत जुर्माना देना पड़ा था।

गंभीर ने ये भी कहा कि पाकिस्तान के साथ सारे रिश्ते खत्म कर देने चाहिए। उनका कहना है कि जब तक हालात पूरी तरह सामान्य नहीं हो जाते पाकिस्तान को साथ क्रिकेट नहीं खेलना चाहिए। गंभीर ने कहा “मैं पाकिस्तान के साथ खेलने के बारें में सोच भी नहीं सकता। देशवासियों की जान किसी भी खेल या दूसरी चीजों से ज्यादा अहम है। मैं एक भारतीय की तरह यहां बात कर रहा हूं किसी क्रिकेटर की तरह नहीं। मेरा मानना है कि हमें पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह का रिश्ता नहीं रखना चाहिए। मेरे लिए देश के लोगों की जान ज्यादा जरूरी है।” गंभीर के इस बयान ने एक बार फिर इस मुद्दे को हवा दे दी है कि भारत को पाकिस्तानी खिलाड़ियों और कलाकारों के साथ काम करना चाहिए या नहीं जबकि उनका देश भारत में आतंकवाद फैला रहा है।