© Getty Images
© Getty Images

गौतम गंभीर सिर्फ टीम इंडिया के बेहतरीन बल्लेबाज ही नहीं बल्कि एक देशभक्त के तौर पर भी जाने जाते हैं। जब भी देश का मुद्दा सामने होता है तो गौतम गंभीर अपने विचार जरूर जाहिर करते हैं। इन दिनों सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाए जाने पर काफी बहस हो रही है जिसमें गौतम गंभीर भी कूद पड़े हैं। गंभीर ने इस मुद्दे पर बड़े ही रोचक अंदाज में अपनी बात कही और लोगों से ही ये पूछ लिया क्या उनके लिए सिनेमाघरों में राष्ट्रगान के सम्मान में 52 सेकेंड खड़े होना मुश्किल होता है? गंभीर ने इस मुद्दे पर ट्वीट किया और लिखा, ‘क्लब के बाहर खड़े होना- 20 मिनट इंतजार, अपने पसंदीदा रेस्तरां के बाहर खड़ा होना- 30 मिनट इंतजार और राष्ट्रगान के लिए 52 सेकेंड। ये मुश्किल है?’

गंभीर के इस ट्वीट पर कई यूजर्स अपनी प्रतिक्रिया देते हुए उनकी तारीफ कर रहे हैं, किसी ने तो गंभीर का विरोध भी किया। एक यूजर ने कहा कि रेस्तरां के बाहर खड़े होना, क्लब के बाहर खड़ा होना ये उनकी निजी पसंद है, ऐसे में राष्ट्रगान के लिए खड़े होना भी निजी पसंद होनी चाहिए। इस यूजर को दूसरे यूजर ने जवाब दिया और लिखा कि ये पसंद नहीं आपका कर्तव्य है। कुछ यूजर्स ने यह भी कहा कि यह सही बात है की राष्ट्रगान का सम्मान होना चाहिए लेकिन अपनी राष्ट्रीयता या देशप्रेम साबित करने के लिए जबर्दस्ती नहीं होनी चाहिए।

 

कानपुर वनडे से पहले हुआ एम एस धोनी और विराट कोहली के बीच 'मुकाबला'
कानपुर वनडे से पहले हुआ एम एस धोनी और विराट कोहली के बीच 'मुकाबला'

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट भी कह चुका है कि देशभक्ति साबित करने के लिए फिल्महॉल में राष्ट्रगान बजने के दौरान खड़ा होना कोई जरुरी नहीं है। इसके साथ ही कोर्ट ने केंद्र सरकार से सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाने को नियंत्रित करने के लिए नियमों में संशोधन पर विचार करने को भी कहा है।