Gautam Gambhir: It’s disgutsing to see Ambati Rayudu is being judged on his IPL from
अंबाती रायडू © AFP

विश्व कप से पहले ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई आखिरी वनडे सीरीज के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने बयान दिया था कि इंडियन प्रीमियर लीग के प्रदर्शन का विश्व कप स्क्वाड पर कोई असर नहीं पड़ेगा। हालांकि विश्व कप के लिए चुनी गई 15 सदस्यीय टीम पर आईपीएल फॉर्म का असर दिख रहा है।

टीम इंडिया के नंबर चार बल्लेबाज के विकल्प अंबाती रायडू आईपीएल में ज्यादा रन नहीं बना सके, जिसके बाद उन्हें विश्व कप स्क्वाड में जगह नहीं मिली है। पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर ने इसे शर्मनाक फैसला बताया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में गंभीर ने लिखा, “ये शर्मनाक है कि उसे (रायडू) को उसकी आईपीएल फॉर्म से ज्यादा आंका जा रहा है ना कि उसकी काबिलियत के हिसाब से। मैं आंकड़ों को ज्यादा बड़ा प्रशंसक नहीं हूं क्योंकि वो पूरी कहानी नहीं बताते।”

ये भी पढ़ें: श्रेयस अय्यर की कप्तानी पारी, संदीप लामिछाने की शानदार गेंदबाजी बनी पंजाब की हार की वजह

रायडू को ना चुनना बीसीसीआई का एकलौता फैसला नहीं है जिससे गंभीर परेशान हैं। गंभीर इंग्लैंड जाने वाले विश्व कप स्क्वाड में केवल तीन स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाज (जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और मोहम्मद शमी) के चुने जाने से भी हैरान हैं।

पूर्व क्रिकेटर ने लिखा, “मैं ये जरूर कहना चाहूंगा कि मैं इस बात से हैरान हूं कि हम केवल तीन स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाजों के साथ जा रहे हैं। मैं इस बारे में बार बार सोचा लेकिन मैं इस चयन को अपने दिमाग में बैठा नहीं पा रहा हूं। मैं हमेशा से मानता आया हूं कि चाहे कोई भी फॉर्मेट हो, बल्लेबाज मैच बनाता है और गेंदबाज मैच जिताता है। इसलिए मुझे लग रहा है कि हम तेज गेंदबाजी विभाग में हल्के कमजोर हैं।”

ये भी पढ़ें:VIDEO: हैदराबाद के खिलाफ हार का सिलसिला तोड़ने उतरेगी कोलकाता

टीम इंडिया के प्रमुख चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने विश्व कप स्क्वाड के ऐलान के समय कहा था कि चौथे पेसर पर काफी विचार विमर्श करने के बाद उन्होंने तीन स्पेशलिस्ट तेज गेंदबाजों और हार्दिक पांड्या के साथ जाने का फैसला किया। लेकिन गंभीर इससे भी सहमत नहीं है। पूर्व क्रिकेटर ने इंग्लैंड के हालातों में चौथे तेज गेंदबाज को जरूरत बताया और नवदीप सैनी का नाम आगे रखा।

उन्होंने लिखा, “हार्दिक और विजय शंकर का पूरा सम्मान रखते हुए, मैं ये कहूंगा कि दोनों को अब भी काफी काम करने की जरूरत है। दोनों छोरों से दो नई गेंदो के साथ और जब स्ट्राइक रेट आसमान छू रहा हो, कोई भी कप्तान एक अतिरिक्त तेज गेंदबाज की मदद चाहेगा। सीधे सीधे कहूं तो, मैं एक और तेज गेंदबाज के साथ जाता, शायद विजय की जगह नवदीप सैनी।”