Gautam Gambhir: MS Dhoni would have been most exciting cricketer in the world had he not captained India and batted at No. 3.
2011 विश्व कप फाइनल मैच के दौरान गौतम गंभीर और महेंद्र सिंह धोनी (Getty images)

टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का कहना है कि अगर महेंद्र सिंह धोनी कप्तानी ना लेकर केवल नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते तो उन्होंने अपने करियर में कई और रिकॉर्ड तोड़ दिए होते।

दरअसल धोनी ने अपने करियर की शुरुआत निचले बल्लेबाजी क्रम से की थी लेकिन तत्कालीन कप्तान सौरव गांगुली ने उनकी काबिलियत को आंकते हुए धोनी को शीर्ष क्रम में जगह दी और उन्होंने इस पोजीशन पर कई यादगार पारियां खेली। लेकिन जब कप्तानी का जिम्मा धोनी पर आया तो उन्होंने गांगुली के दिखाए रास्ते पर चलते हुए युवा बल्लेबाजों को तीन-चार नंबर पर खिलाया और खुद निचले क्रम में रहे।

धोनी ने ज्यादाकर मैचों में निचले क्रम में खेलते हुए 350 वनडे में 50 की औसत से 10,773 रन बनाए जो कि अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि है। हालांकि गंभीर का कहना है कि अगर धोनी लगातार तीन नंबर पर बल्लेबाजी करते तो वो दुनिया के सबसे रोमांचक क्रिकेटर बन सकते थे।

स्टार स्पोर्ट्स के थो क्रिकेट कनेक्टेड पर गंभीर ने कहा, “इस दुनिया ने शायद एक चीज मिस कर दी, वो ये कि एमएस ने भारत की कप्तानी और तीन नंबर पर बल्लेबाजी नहीं की। अगर वो तीन नंबर पर बल्लेबाजी करते तो शायद विश्व क्रिकेट को एक अलग ही खिलाड़ी देखने को मिलता।”

‘स्पिनर्स का था बोल-बाला, उपस्थिति दर्ज करने के लिए कप्‍तान से मांगनी पड़ती थी गेंद’

पूर्व क्रिकेटर ने कहा, “उन्होंने शायद ज्यादा रन बनाए होते, ज्यादा रिकॉर्ड तोड़े होते। रिकॉर्ड्स को भूल जाएं, वो तोड़ने के लिए ही बने होते हैं। अगर उन्होंने भारत की कप्तानी ना करके तीन नंबर पर बल्लेबाजी की होती तो वो दुनिया के सबसे रोमांचक खिलाड़ी होते।”

उन्होंने आगे कहा, “एमएस धोनी नंबर तीन पर, फ्लैट विकेट पर मौजूदा क्वालिटी गेंदबाजी अटैक के खिलाफ बल्लेबाजी करते….आप देखिए श्रीलंका, बांग्लादेश और वेस्टइंडीज के मौजूदा हालातों को, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनकी क्वालिटी को, एमएस धोनी ने ज्यादातर रिकॉर्ड तोड़ दिए होते।”