8f1628f4fa9e684ddc51b62a22a07175

नई दिल्ली। टेस्ट सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर दिल्ली और जिला क्रिकेट संघ की प्रबंध समिति में सरकार के प्रतिनिधि होंगे और उन्होंने साफ तौर पर कहा कि वह विवादों से घिरे संघ का पुराना वैभव लौटाने के लिये अपनी ओर से पूरा प्रयास करेंगे। दिल्ली के दिग्गज और मौजूदा क्रिकेटर गंभीर ने खेलमंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ को ट्विटर पर धन्यवाद दिया।

उन्होंने लिखा,‘‘फिरोजशाह कोटला पर फील्ड में बदलाव का मौका मिला। अब डीडीसीए में बदलाव का समय है। इसका खोया गौरव लौटाना है। डीडीसीए की प्रबंध समिति में सरकारी प्रतिनिधि बनकर गौरवान्वित हूं। धन्यवाद राज्यवर्धन सिंह राठौर।’’

गौतम गंभीर पिछले दिनों एमएस धोनी के समर्थन में खुलकर सामने आए थे। उन्होंने धोनी की आलोचना करने वाले लोगों को करारा जवाब दिया था। पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी के करियर को लेकर तब सवाल उठने शुरू हो गए थे जब वह न्यूजीलैंड के खिलाफ दूसरे टी20 में धीमी स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते नजर आए थे और टीम इंडिया को मैच गंवाना पड़ा था। कई क्रिकेट एक्सपर्ट्स ने तक कहा था कि धोनी को सीमित ओवर क्रिकेट से संन्यास ले लेना चाहिए। बहरहाल, गंभीर का मानना है कि श्रेय उसे ही दिया जाना चाहिए जहां ये जरूरी है और उनके मुताबिक धोनी श्रेय पाने के हकदार हैं। क्योंकि धोनी ने खराब समय में टीम इंडिया को संवारने में अहम भूमिका निभाई है।

विराट कोहली को नजर लगा रहे हैं लोग: आशीष नेहरा
विराट कोहली को नजर लगा रहे हैं लोग: आशीष नेहरा

गौतम गंभीर ने कहा कि जिस तरह से उन्होंने टीम इंडिया को संवारा है उसके लिए उन्हें श्रेय दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, “आपको उन्हें श्रेय देना चाहिए क्योंकि ये जरूरी है। कई मर्तबा तो लोगों ने उनकी कप्तानी पर भी सवाल उठाए। जो उन्होंने भारतीय क्रिकेट के लिए किया वह बहुत से लोगों ने नहीं किया, खासतौर पर उन्होंने जिस तरह से टीम इंडिया को खराब परिस्थितियों में संवारा है वह गजब है। जब टीम बढ़िया प्रदर्शन कर रही हो तब उसे संभालना आसान है। लेकिन जिस तरह से उन्होंने खराब समय में टीम इंडिया को संभाला वो उल्लेखनीय है। खासतौर पर ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड में साल 2011-12 में जहां हमें 4-0 से हार झेलनी पड़ी थी, इस दौरान वह पूरी तरह से शांत रहे थे और ज्यादा भावुक नहीं हुए थे। इसके लिए धोनी को बहुत श्रेय जाना चाहिए।” गंभीर ने भारत के लिये 58 टेस्ट, 147 वनडे और 37 टी20 मैच खेले हैं।